Published on 2023-01-23
img

पीएच.डी. की उपाधि प्राप्त कर रहे स्नातकों को देव संस्कृति विश्वविद्यालय के प्रतिकुलपति जी का संदेश
वर्धा। महाराष्ट्र : देव संस्कृति विश्वविद्यालय, हरिद्वार के प्रतिकुलपति आदरणीय डॉ. चिन्मय पण्ड्या जी 14 जनवरी 2023 को वर्धा में जय महाकाली शिक्षण संस्था, अग्निहोत्री ग्रुप अॉफ इंस्टीट्यूशंस द्वारा आयोजित ‘सेवा सत्कार समारोह 2023’ के मुख्य अतिथि थे। वहाँ उन्होंने पीएच.डी. उपाधि प्राप्त करने वाले छात्र-छात्राओं, शिक्षकों, अभिभावकों और गायत्री परिजनों को संबोधित किया। आदरणीय डॉ. चिन्मय जी ने विद्यार्थियों को गुरू-शिष्य सम्बन्धों और उनके सामाजिक दायित्वों का बोध कराया। उन्होंने कहा कि मानवीय गरिमा इसमें है कि हम अपने ज्ञान और प्रतिभा का सदुपयोग समाज की भलाई के लिए करें। हम अवसरों को पहचानें तथा उदात्त संभावनाओं को साकार करने हेतु पूरी निष्ठा के साथ परिश्रम करें। उन्होंने कहा कि समाज हित में बहुमूल्य योगदान देना ही एक शिष्य का कर्तव्य है। आरम्भ में कार्यक्रम की अध्यक्षता कर रहे पं. शंकर प्रसाद अग्निहोत्री जी ने शान्तिकुञ्ज प्रतिनिधि का स्वागत किया। उन्होंने समारोह में उपस्थित मा. श्री मोहन जोशी जी (अभिनेता, मुंबई), मा. श्री समीर कुणावार (सांसद, हिंडनघाट) एवं अन्य गणमान्य अतिथियों को पूज्य गुरूदेव का साहित्य प्रदान कर सम्मानित किया।


Write Your Comments Here:


img

समाज को सकारात्मकता एवं सृजनात्मक उत्कृष्टता की ओर प्रेरित करते कार्यक्रम

पीड़ित युवतियों के उत्थान के प्रयासरेस्क्यू फाउण्डेशन में जाकर मनाया जन्मदिवसबोरीवली, मुंबई। महाराष्ट्ररेस्क्यू फाउंडेशन देह व्यापार से छुड़ाई गई युवा लड़कियों के पुनर्वास के लिए काम करने वाली स्वयंसेवी संस्था है, जो पूरे महाराष्ट्र में सक्रिय है। दिया, मुम्बई के.....

img

1126 जोड़ों का सामूहिक विवाह संस्कार

प्रयागराज। उत्तर प्रदेश श्रम विभाग प्रयाजराज की ओर से दिनांक 13 मार्च को सामूहिक विवाह का विशाल समारोह आयोजित किया गया। माघ मेला, परेड ग्राउण्ड में आयोजित इस संस्कार समारोह में 1126 जोड़ों ने और 18 मुस्लिम जोड़ों ने गृहस्थ.....

img

छत्तीसगढ़ में नारी सशक्तीकरण के लिए ऑनलाइन प्रशिक्षण

‘विजन 2026’ के साथ हो रहे हैं कार्यक्रम छत्तीसगढ़ के प्रान्तीय संगठन द्वारा ‘विजन-2026’ को लेकर 11 मार्च से 25 अप्रैल 2023 तक बहिनों का ऑनलाइन प्रशिक्षण शिविर चलाया जा रहा है। यह प्रशिक्षण परम वंदनीया माताजी की जन्मशताब्दी वर्ष.....