Published on 2023-01-23
img

बैण्ड वादन में प्रथम, अन्य कार्यक्रमों से भी आकर्षित हुए अतिथिगण
शान्तिकुञ्ज स्काउट गाइड ने राजस्थान के पाली में 4 से 10 जनवरी को हुए 18 वीं राष्ट्रीय जम्बूरी में राज्य का प्रतिनिधित्व किया। गायत्री विद्यापीठ, शान्तिकुञ्ज के दल ने महामहिम राष्ट्रपति श्रीमती मुर्मू की प्रज्ञा बैण्ड की सुमधुर ध्वनि के साथ अगवानी की। इसके पश्चात विभिन्न साहसिक एवं बौद्धिक प्रतियोगिताओं में उत्कृष्ट प्रदर्शन किया। शान्तिकुञ्ज के बैण्ड वादन को प्रथम स्थान प्राप्त हुआ है। कंटीजन लीडर श्री मंगल सिंह गढ़वाल के नेतृत्व में गायत्री विद्यापीठ एवं प्रशिक्षकों सहित 46 सदस्यीय दल जम्बूरी में प्रतिभाग करने गया था। पूरे देश से 37 हजार से अधिक स्काउट गाइड जम्बूरी में भाग ले रहे थे। श्रीलंका, बांग्लादेश, भूटान से भी प्रतिभागी आए। राष्ट्रीय जम्बूरी का समापन राष्ट्रीय जम्बूरी के वरिष्ठ प्रतिनिधियों एवं राजस्थान सरकार के गणमान्यों की मौजूदगी में हुआ था। अपनी सफलता से उत्साहित दल अपने सर्वोच्च अभिभावक श्रद्धेय डॉ. प्रणव पण्ड्या जी एवं श्रद्धेया शैल दीदी से भेंट करने पहुँचा। टीम ने बैण्ड में मिला प्रथम पुरस्कार उन्हें सौंपा और आशीर्वाद लिया। श्रद्धेय द्वय ने कहा कि गायत्री विद्यापीठ एवं शान्तिकुञ्ज में विद्यार्थियों को समग्र व्यक्तित्व विकास का जो अवसर मिल रहा है, वह अद्वितीय है। हमारे विद्यार्थी शिक्षा, योग, खेल, बौद्धिक प्रतियोगिता आदि हर क्षेत्र में नित नये कीर्तिमान स्थापित कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि स्काउट-गाइड की शिक्षाएँ व्यक्तित्व विकास एवं सभ्य समाज के निर्माण में बहुत महत्त्वपूर्ण भूमिका निभाती हैं।श्रद्धेया शैलदीदी ने ठंड के बीच नौनिहालों द्वारा प्रदर्शित कौशल की सराहना की और उज्ज्वल भविष्य के लिए शुभकामनाएँ दी। शान्तिकुञ्ज के व्यवस्थापक श्री महेन्द्र शर्मा जी, देसंविवि के प्रतिकुलपति डॉ. चिन्मय जी, विद्यापीठ प्रबंध मण्डल की प्रमुख श्रीमती शेफाली जी सहित देसंविवि व शान्तिकुञ्ज परिवार ने दल को जीत की बधाई दी।शान्तिकुञ्ज जनपद के दल में सर्वश्री नरेन्द्र सिंह, विनय शर्मा, सोमेश्वर ताण्डी, श्रीमती गायत्री साहू, श्रीमती आराधना शर्मा ने संरक्षक-मार्गदर्शक की भूमिका निभाइ 
स्काउट की शिक्षाएँ व्यक्तित्व विकास एवं सभ्य समाज के निर्माण में बहुत महत्त्वपूर्ण भूमिका निभाती हैं।- श्रद्धेय डॉ. प्रणव पण्ड्या जी
उत्तराखण्ड का गौरवउत्तराखण्ड में शान्तिकुञ्ज को भारत स्काउट गाइड के एक अलग जनपद के रूप में मान्यता प्राप्त है। जब से इसे अलग जनपद के रूम में मान्यता मिली है, तब से शान्तिकुञ्ज स्काउट गाइड उत्तरोत्तर प्रगति कर रहा है। राष्ट्रीय जम्बूरी के इतिहास में यह पहला मौका है कि उत्तराखण्ड का नाम रोशन करते हुए शान्तिकुञ्ज स्काउट गाइड इकाई को बैण्ड में प्रथम स्थान प्राप्त हुआ।
शानदार प्रदर्शन जम्बूरी में लगाई गई उत्तराखण्ड की प्रदर्शनी को अतिथियों ने खूब सराहा। स्काउट-गाइड ने अपने-अपने कैंप में परंपरागत वेशभूषा में आगंतुकों का स्वागत करते हुए अपनी गौरवशाली सांस्कृतिक विरासत का परिचय दिया।  शान्तिकुञ्ज के स्काउट गाइड द्वारा लगाए गए फूड प्लाजा में देश-विदेश से आये अतिथियों का तांता लगा रहा। सभी ने देवभूमि के व्यंजनों का लुत्फ लिया। शान्तिकुञ्ज सहित देवभूमि के स्काउट्स गाइड्स को एडवेंचर सहित अनेक प्रतियोगिताओं में कई पुरस्कार मिले।


Write Your Comments Here:


img

अर्जित ज्ञान का सदुपयोग मानवता की भलाई के लिए होना चाहिए

पीएच.डी. की उपाधि प्राप्त कर रहे स्नातकों को देव संस्कृति विश्वविद्यालय के प्रतिकुलपति जी का संदेशवर्धा। महाराष्ट्र : देव संस्कृति विश्वविद्यालय, हरिद्वार के प्रतिकुलपति आदरणीय डॉ. चिन्मय पण्ड्या जी 14 जनवरी 2023 को वर्धा में जय महाकाली शिक्षण संस्था, अग्निहोत्री ग्रुप अॉफ इंस्टीट्यूशंस द्वारा आयोजित.....

img

दिल्ली में मंत्री, सांसद एवं गणमान्यों से भेंट

देव संस्कृति विश्वविद्यालय के प्रतिकुलपति आदरणीय डॉ. चिन्मय जी दिनांक 5 जनवरी 2023 को दिल्ली पहुँचे। वहाँ उन्होंने भारत सरकार के अनेक मंत्री एवं सांसदों से भेंट की। उनके साथ वर्तमान सामाजिक परिस्थितियों के संदर्भ में चर्चा हुई, उन्हें परम पूज्य गुरूदेव के संकल्प,.....

img

गुजरात के राज्यपाल से प्राकृतिक खेती को बढ़ावा देने पर चर्चा हुई

13 जनवरी 2023 को अपने गुजरात प्रवास में आदरणीय डॉ. चिन्मय पण्ड्या जी गाँधीनगर स्थित राजभवन में राज्यपाल माननीय आचार्य देवव्रत जी से भेंट करने पहुँचे। शान्तिकुञ्ज की ओर से उन्हें पूज्य गुरूदेव का साहित्य भेंट किया। इस अवसर पर माननीय राज्यपाल जी से प्राकृतिक कृषि को बढ़ावा.....