Published on 2023-04-02
img

नि:संतान दम्पतियों हेतु कार्यशालाउज्जैन। मध्य प्रदेशदिनांक 25 फरवरी 2023 को महाकालेश्वर आई.वी.एफ. सेंटर, जे.के. हॉस्पिटल में नि:संतान दंपत्तियों के लिए विशाल नि:शुल्क शिविर आयोजित किया गया। इस शिविर में जे.के. हॉस्पिटल की संचालिका डॉ. जया मिश्रा ने नि:संतानदम्पतियों के मार्गदर्शन के लिए गायत्री परिवार की उज्जैन शाखा को भी आमंत्रित किया था।आओ गढ़ें संस्कारवान पीढ़ी अभियान की उज्जैन उप जोन समन्वयक श्रीमती उर्मिला प्रहलाद सिंह तोमर ने कार्यशाला में गायत्री परिवार का प्रतिनिधित्व करते हुए प्राचीन काल के गर्भाधान संस्कार और वर्तमान में पुंसवन संस्कार के बारे में विस्तार से जानकारी दी। उन्होंने कहा कि गायत्री परिवार का आओ गढ़ें संस्कारवान पीढ़ी अभियान इन्हीं संस्कारों का समयानुरूप संस्करण है। इसके अन्तर्गत गर्भ धारण से पूर्व दम्पति शिविर किया जाता है, जिसमें संतान प्राप्ति के इच्छुक दम्पतियों को उचित आचार-विचार-व्यवहार की जानकारी दी जाती है।डॉ. जया मिश्रा युगऋषि की संस्कार परम्परा को प्रोत्साहित करने में गायत्री परिवार की बड़ी समर्थ और सहयोगी रही हैं। उन्होंने आओ गढ़ें संस्कारवान पीढ़ी अभियान को गति देने में महत्त्वपूर्ण भूमिका निभाई है। गायत्री परिवार उज्जैन उन्हें अपना सहयोगी डॉ. जया मिश्रा व उर्मिला तोमर पाकर विशिष्ट गौरव अनुभव करता है।


Write Your Comments Here:


img

मौन साधना एवं प्रशिक्षण शिविर सम्पन्न

https://m.facebook.com/story.php?story_fbid=pfbid0326VkTTJDExQGZL6JMWWVLY9sy9DRPrGLfZNtqvq6Uz3RGhazqtvunvRwsLCM3A5fl&id=100050487125471&mibextid=Nif5oz💐💐💐💐💐💐💐💐*शानदार जीवन जीने हेतु विज्ञान व आध्यात्म के समन्वय की आवश्यकता जिसमें गायत्री शक्तिपीठ का यह प्रयास सराहनीय* आ.मनोज कुमार शर्मा जी (DIG,NDRF,वाराणसी)💐💐💐💐💐💐💐💐*स्थूल रूप से भले गायत्री परिवार का सदस्य नहीं पर मेरे रोम-रोम में बसते हैं श्रीराम जिनका.....

img

भारतीय संस्कृति को अपनाएं और अपने यौवन को सार्थक बनाएं - DIG,NDRFआ.मनोज शर्मा जी

भारतीय संस्कृति को अपनाएं और अपने यौवन को सार्थक बनाएं - DIG,NDRFआ.मनोज शर्मा जी 9 अप्रैल,शक्तिपीठ,लंका। गायत्री शक्तिपीठ,लंका के दिव्य प्रांगण में आयोजित भारतीय संस्कृति ज्ञान परीक्षा के.....

img

अत्यंत सफल और लोकप्रिय रहा नौ दिवसीय ज्ञानयज्ञ

नई दिल्लीप्रगति मैदान, नई दिल्ली में दिनांक 25 फरवरी से 5 मार्च 2023 की तिथियों में आयोजित विश्व पुस्तक मेला युगऋषि के विचार क्रान्ति के बीजों को बुद्धिजीवियों के मन-मस्तिष्क में प्रतिष्ठित करने की दृष्टि से बहुत सफल रहा। इस नौ दिवसीय ज्ञानयज्ञअनुष्ठान के माध्यम से.....