पाँच दिवसीय बाल संस्कार शाला शिविर सम्पन्न.

Published on 2017-12-26
img

11 राज्यों के 65 प्रतिभागियों ने की भागीदारी.शिष्य के व्यक्तित्व का निर्माण गुरु की प्रतिष्ठा का प्रश्न: डॉ प्रणव पण्ड्या. युगऋषि पं० श्रीराम शर्मा आचार्य जी ने ‘अध्यापक हैं युग निर्माता-छात्र राष्ट्र के भाग्य विधाता’ का नारा देकर बाल संस्कार शाला के महत्त्व को समझने और उसे पुनरूस्थापित करने का उत्साह जगाया। इन दिनों गायत्री परिवार द्वारा देश भर में चलायी जा रही बाल संस्कार शालाएँ इसी पुण्य परंपरा को जीवंत करने के सार्थक-सफल प्रयासों के रूप में देखी जा रही हैं।शांतिकुंज उनकी गुणवत्ता बढ़ाने और लोकप्रिय बनाने का निरंतर प्रयास कर रहा है। इसी क्रम में विवेकानंद हॉल में पाँच दिवसीय बाल संस्कार शाला शिविर का आज समापन हुआ। इसमें दिल्ली, गुजरात, मप्र सहित 11 राज्यों के 65 प्रतिभागियों ने अपनी शानदार सफलताओं का कारण संस्कार शालाओं के संचालकों का दृष्टिकोण बताया।अखिल विश्व गायत्री परिवार प्रमुख डॉ. प्रणव पण्ड्या जी ने प्रतिभागियों को सम्बोधित करते हुए कहा कि कभी भारत जगद्गुरु था, तब की गुरु-शिष्य संबंधों की परंपरा बड़ी आदर्श थी। शिष्य के व्यक्तित्व का निर्माण गुरु की प्रतिष्ठा का प्रश्न हुआ करता था और शिष्य में गुरु के प्रति भगवान से भी बढ़कर श्रद्धा के भाव विकसित होते देखे जाते थे। आज गुरु-शिष्य परंपरा शायद ही कहीं दिखाई देती हो। शिक्षक-विद्यार्थी का संबंध निहायत व्यावसायिक हो गया है। बनने-बनाने का न कोई लक्ष्य है, न पीड़ा। संस्था की अधिष्ठात्री शैल दीदी ने कहा कि बच्चों के व्यावहारिक शिक्षण का यह एक उत्कृष्ट प्रयोग है तथा शिक्षण तकनीक बाल मनोविज्ञान के साथ मनोरंजक कार्यों, खेलों के माध्यम से बच्चों में बदलाव लाने की कारगर विधि है।इस अवसर पर हजारीबाग झारखंड से आये प्रो० बी के विश्वकर्मा ने बताया कि उनकी बाल संस्कार शाला में बच्चों को इतना प्यार मिलता है जितना शायद उनके माता-पिता भी न दे पाते हों। दुर्ग छत्तीसगढ़ से आये रामलाल यादव ने बताया कि एक वर्ष में बच्चों में आये परिवर्तन और संस्कारों से प्रभावित होकर अब उनके अभिभावकों ने कहा है कि यह बाल संस्कार शाला किसी भी कीमत पर बंद नहीं होनी चाहिए। वे इसके लिए हर प्रकार का सहयोग करने के लिए तैयार हैं।

img

सभ्य समाज के निर्माण में चिकित्सकों का योगदान

गाज़ियाबाद में हुए दो सेमीनार, गर्भवती बहनों में जागरूकता बढ़ाएँगे३५० चिकित्सकों ने लाभ लिया।अपने क्लीनिक के स्वागत कक्ष पर पोस्टर, बैनर, हैंगर टांगने तथा ब्रोशर व संबंधित पुस्तक, संबंधित टीवी प्रेज़ेण्टेशन आदि माध्यमों से गर्भवती बहनों को इस संदर्भ में.....

img

झुग्गी-झोपड़ियों के बच्चों को सँवारेगा शांतिकुंज

२७ नवंबर को हरकी पौड़ी के निकटवर्ती झुग्गी झोपड़ियों में रहने वाले बच्चों के लिए नई बाल संस्कार शाला का शुभारंभ हुआ।  शांतिकुंज व्यवस्थापक श्री शिवप्रसाद मिश्र एवं हरिद्वार के एसएसपी श्री कृष्ण कुमार वीके की धर्मपत्नी श्रीमती शीबा केके.....

img

अलवर में अनेक स्थानों पर बाल संस्कारशाला का सफल सञ्चालन

अलवर  | Rajasthanअलवर में चल रही है बाल संस्कार शाला के दृश्य |  महाराणा प्रताप बाल संस्कार शाला, प्रताप नगर,  पंडित दीनदयाल बाल संस्कार शाला,  आदर्श कॉलोनी, गोस्वामी तुलसीदास बाल संस्कार शाला, किशनगढ़ (अलवर),  संत कबीर बाल संस्कार शाला किशनगढ़(अलवर) | .....