Published on 2017-12-23

गंगा को उसकी सनातन गरिमा प्रदान करने का भागीरथी प्रयास : डॉ पण्ड्या9 टोलियाँ गंगा के तटीय स्थानों में जन जागरण के लिए रवाना ! अखिल विश्व गायत्री परिवार के तत्त्वावधान में पावन गंगा के उद्गम स्थान से लेकर अंतिम छोर तक तट सफाई एवं जल शुद्धि का भागीरथी पुरुषार्थ में जुटे हैं लाखों गायत्री परिवार के कार्यकर्त्ता। इस अभियान के अंतर्गत 2525 किमी लम्बी जीवनदायिनी माँ गंगा को पाँच अंचल में बाँटा गया है और इसकी निरंतरता के मद्देनजर इसे पाँच चरण में पूरा किया जाना है। इसके प्रथम चरण के अंतर्गत शुुरुआत से अंत तक का सर्वेक्षण कार्य पूरा किया जा चुका है। तीन दिवसीय विशेष प्रशिक्षण के समापन के साथ द्वितीय चरण-जन जागरण, गंगा संवाद के लिए निकलने वाली टोली सदस्यों पर पावन समाधि स्थल से हजारों कार्यकर्त्ताओं की उपस्थिति में पुष्प वर्षा की गई। इसके पश्चात गायत्री परिवार प्रमुख डॉ प्रणव पण्ड्या ने हरी झंडी दिखाकर रवाना किया।इससे पूर्व प्रतिभागियों को सम्बोधित करते हुए संस्था की अधिष्ठात्री शैल दीदी ने कहा कि माँ गंगा हम सबकी माता समान है। ऋषियों की धरोहर के रूप में स्थापित गंगा देवात्मा हिमालय के गर्भ से सागर तक प्रवाहमान सुरसरि देव संस्कृति के उद्गम और विकास की साक्षी रही है। विदाई संदेश देते हुए अखिल विश्व गायत्री परिवार प्रमुख डॉ प्रणव पण्ड्या ने कहा कि मोक्षदायिनी माँ गंगे को उसकी सनातन गरिमा प्रदान करने हेतु गायत्री परिवार पिछले एक वर्ष से जुटा हुआ है। गंगोत्री से गंगासागर तक को भागीरथी अंचल-गोमुख से हरिद्वार, विश्वामित्र अंचल-हरिद्वार से कानपुर, भारद्वाज अंचल-कानपुर से बनारस, गौतम अंचल-बनारस से सुल्तानगंज तथा रामकृष्ण अंचल-सुल्तानगंज से गंगासागर तक में बाँटा गया है। इन अंचलों में पाँच चरणों में गंगा को निर्मल बनाने के लिए कार्य किये जायेंगे। उन्होंने गंगा की पवित्रता को अक्षुण्य बनाये रखने के लिए करणीय एवं अकरणीय कार्यों को बिन्दुवार रेखांकित किया। उन्होंने कहा कि सन् 2026 के वसंत पंचमी तक चलने वाली निर्मल गंगा जन अभियान के अंतर्गत गंगा के साथ उनकी सहयोगी नदी-चंबल, यमुना, सरस्वती आदि को निर्मल बनाने का क्रम जारी है। इसके लिए कई अन्य संगठन भी गायत्री परिवार की इस महत्वाकांक्षी योजना में सहयोग कर रहे हैं। यहाँ उल्लेखनीय है कि गायत्री परिवार ने अब तक राजस्थान, गुजरात, मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़,  उप्र आदि राज्यों के 10 नदियों को स्वच्छ एवं निर्मल बनाने में आशातीत सफलता प्राप्त की है।जोन समन्वयक कालीचरण शर्मा ने बताया कि निर्मल गंगा जन अभियान के द्वितीय चरण के क्रियान्वयन हेतु जन जागरण-गंगा संवाद के लिए 9 टोलियां रवाना हुईं। ये टोलियाँ गंगा तट के दोनों ओर बसे गाँव, कस्बा, शहरों में कार्यक्रम सम्पन्न करायेंगी। एक टोली में चार से पाँच सदस्य शामिल हैं, जो अपने-अपने विषय के विशेषज्ञ हैं। उन्होंने बताया कि स्थानीयों को अपने क्षेत्र से गंगा को स्वच्छ बनाये रखने में सहयोग करने के लिए तैयार करेंगे। Find the links, राष्ट्रीय स्तर पर निर्मल गंगा जन अभियान शुरु निर्मल गंगा जन अभियान 


Write Your Comments Here:


img

विभिन्न संगठनों के साथ मिलकर गायत्री परिवार ने चलाया ‘ताप्ती शुद्धि अभियान’

बुरहानपुर : बुरहानपुर में गायत्री परिवार ने विभिन्न संगठनों के साथ मिलकर ताप्ती अंचल शुद्धि अभियान चलाया । इस अभियान में पतंजलि योग पीठ के साथ विभिन्न सामाजिक संगठनों ने हिस्सा लिया । कार्यक्रम में जिला कलेक्टर श्री दीपक सिंह, नगर.....

img

जल स्त्रोत शुद्धीकरण एवं स्वछता अभियान – गोरेगाँव (जि. गोंदिया,महा.)

गोरेगाँव : अखिल विश्व गायत्री परिवार द्वारा चलाए जा रहे 7 सूत्रीय आंदोलन के राष्ट्रीय सम्मेलन (अक्टूबर २०१६ – हरिद्वार) में गायत्री परिवार गोरेगाँव (जि.गोंदिया,महा.) एवं दिया युवा संघटना के साथियों ने भी संकल्प लिया था। इसी के तहत स्वच्छता एवं जल स्त्रोत शुद्धिकरण.....