• भोपाल (मध्य प्रदेश) में गायत्री चेतना के विस्तार में मिली विशिष्ट सफलताएँ
इस्लामी मतावलम्बियों में बढ़ रहा है सद्भाव

भोपाल (मध्य प्रदेश)
गायत्री शक्तिपीठ भोपाल पर ‘युग निर्माण-इस्लामी दृष्टिकोण’ विषय पर व्याख्यान आयोजित हुआ। शांतिकुंज मनीषी श्री वीरेश्वर उपाध्याय और वर्ल्ड ऑर्गनाइजेशन ऑफ रिलीजियस नॉलेज, रामपुर (उ.प्र.) के विद्वान सैयद अब्दुल्लाह तारिक मोहम्मद इसके मुख्य वक्ता थे। 

श्री तारिक मुहम्मद जी ने अपने व्याख्यान की शुरुआत गायत्री मंत्र से की। उन्होंने कहा कि ‘गायत्री मंत्र और नमाज में पढ़ी जाने वाली प्रार्थना सूरह फातिहा’ का भाव एक ही है।  कुरान और वेद दोनों में सिद्धांत एक समान हैं, दोनों में एक जैसे नियम और कानून हैं। इन्हें मानने वाला ही सच्चा हिंदू और सच्चा मुसलमान है। 

आदरणीय श्री वीरेश्वर उपाध्याय जी ने कहा कि सभी धर्म के मूलभूत सिद्धांत व्यक्ति को नेक, परोपकारी बनने मैत्री और प्रेम-भावना के साथ जीने की प्रेरणा देते हैं। हमें अपनी जड़ता को छोड़ समय की माँग के अनुरूप इन मौलिक प्रेरणाओं को पोषण देने वाली परंपराओं को अपनाना चाहिए। 

शांतिकुंज प्रतिनिधि ने युगऋषि पं. श्रीराम शर्मा आचार्य जी के १८ सत्संकल्पों को आज के युग में सर्वतोमुखी प्रगति और सर्वत्र अमन चैन की स्थापना के लिए परम आवश्यक सूत्र बताया। यह सभी धर्म-पंथों के लिए हितकारी, सर्वमान्य सूत्र हैं। मानवमात्र को इन्हें अपनाना और उज्ज्वल भविष्य की स्थापना में अपना योगदान देना चाहिए। 

इस समारोह में पूर्व सांसद आरिफ बेग और भोपाल के शहर काजी सहित हिंदू-मुस्लिम धर्मावलम्बी बड़ी संख्या में उपस्थित थे। सभी ने अपनी-अपनी प्रार्थना के साथ मानवमात्र के कल्याण का भाव रखते हुए समूह साधना की। 


तनाव से मुक्ति के लिए सहकार बढ़ायें
  • तनाव प्रबंधन संगोष्ठी
भोपाल (मध्य प्रदेश)
१७ मई को अपेक्स बैंक सभागार, भोपाल में शांतिकुंज प्रतिनिधि आदरणीय श्री वीरेश्वर उपाध्याय जी का तनाव प्रबंधन पर विशेष व्याख्यान हुआ। उन्होंने अपने उद्बोधन में तनाव प्रबंधन करने और बेहतर कार्यदक्षता, आत्मसंतोष व घर, परिवार, समाज में सुख-शांति का वातावरण बनाने के लिए सहकारिता पर विशेष जोर दिया। 
शांतिकुंज प्रतिनिधि ने कहा कि सहकारिता से ही सृष्टि का संचालन संभव होता है। मनुष्य इसी व्यवस्था को ईमानदारी से अपने जीवन में अपना ले तो अनेक समस्याओं, संकटों और तनाव से सहज ही बच जायेगा। कार्यक्रम में श्री एसके मिश्र प्रबंध संचालक मार्कफेड, श्री जेपी गुप्ता अपर आयुक्त सहकारिता, श्री विनोद पाठक संयुक्त कलेक्टर एवं श्री प्रदीप नीखरा संयुक्त आयुक्त सहकारिता विशेष रूप से उपस्थित थे। 


विचार क्रांति सर्कल
  • नवजागृति की प्रेरणा का प्रशंसनीय प्रयोग
सूरत (गुजरात)
युग निर्माण आन्दोलन की प्रतीक ‘लाल मशाल’ अपने आप में नवजागृति का संदेश है। परम पूज्य गुरुदेव ने किसी व्यक्ति को नहीं, इस लाल मशाल को ही गुरुरूप में स्थापित करने और इसके संदेश को हृदयंगम करने की प्रेरणा दी है। ‘लाल मशाल’  का प्रेरणा-प्रकाश जन-जन में सृजनक्रांति की उमंग जगायेगा। 

गायत्री परिवार जिला संगठन, सूरत ने नगर निगम से शहर का एक प्रमुख चौराहा प्राप्त कर वहाँ १८ फीट ऊँची लाल मशाल की विशाल प्रतिमा स्थापित कर उस चौराहे को ‘विचार क्रांति सर्कल’ नाम दिया है। उद्देश्य की पूर्ति के लिए सर्कल पर चारों ओर सद्वाक्य और लाल मशाल का भाव समझाने वाले फ्लैक्स लगाये गये हैं। 


आओ गढ़ें संस्कारवान् पीढ़ी
  • सामूहिक पुंसवन संस्कार आन्दोलन

भोपाल (मध्य प्रदेश)
‘आओ गढ़ें संस्कारवान् पीढ़ी।’ के उद्घोष के साथ गायत्री शक्तिपीठ भोपाल पर गर्भवती महिलाओं के लिए विशेष व्याख्यान आयोजित किया। मुख्य वक्ता जबलपुर से आई विशेषज्ञ डॉ. अमिता सक्सेना ने पावर पॉइण्ट प्रेज़ेण्टेशन के माध्यम से बहिनों को अभीष्ट जानकारियाँ प्रदान कीं। उन्होंने कहा कि नई बहू के स्वागत के लिए ढेरों तैयारियाँ की जाती हैं, लेकिन उससे कहीं ज्यादा महत्त्वपूर्ण है नवशिशु के आगमन के लिए तैयारियाँ करना, क्योंकि बालक का ८० प्रतिशत विकास गर्भ में ही हो जाता है। 
डॉ. अमिता ने माता को अच्छे विचार, आहार  देने और अच्छा व्यवहार करने से बालक के संस्कारों में आने वाले सकारात्मक परिवर्तनों की चर्चा हुई। उन्होंने गायत्री परिवार द्वारा चलाये जा रहे पुंसवन संस्कार आन्दोलन को संस्कारवान संतति के निर्माण के लिए किया जाने वाला एक वैज्ञानिक, मनोवैज्ञानिक प्रयोग बताया।
 
गायत्री परिवार भोपाल के परिजनों ने शहर की सभी कॉलोनियों में घर-घर जाकर गर्भवती महिलाओं की सूची तैयार करने और उनका सामूहिक पुंसवन संस्कार कराने का निर्णय लिया।


आदर्श ग्राम विकास योजना
  • क्रांतिकारी युवाओं ने किया १०८ गाँवों का मंथन

बोरगाँव, छिंदवाड़ा (मध्य प्रदेश)
स्थानीय शाखा के कर्मठ युगसेनानियों ने इस वर्ष के पहले चार महीने में अपने क्षेत्र के १०८ से अधिक गाँवों का सघन मंथन करते हुए गाँववासियों को अपने गाँव के आदर्श विकास की प्रेरणा दी, विभिन्न योजनाओं की जानकारी दी। उन्हें बेहतर स्वास्थ्य, अच्छे संस्कार और जीवन में सुविचारों के ज्यादा से ज्यादा समावेश की प्रेरणा दी। युवा प्रकोष्ठ बोरगाँव के कार्यकर्त्ता श्री कैलाश धोटे ने बताया कि मध्य प्रदेश सरकार के जिला प्रभारी मंत्री श्री गौरीशंकर बिसेन, तत्कालीन केन्द्रीय मंत्री श्री कमलनाथ, भूतपूर्व शिक्षामंत्री श्री नानाभाऊ मोहड़ सहित अपने गणमान्य ग्रामतीर्थ जागरण के इन कार्यक्रमों में समय-समय पर आये और गायत्री परिवार के कार्यक्रमों की प्रशंसा की, प्रोत्साहन दिया। 

गाँव-गाँव, घर-घर संपर्क कर जन-जन तक परम पूज्य गुरुदेव की युग निर्माण योजना और उनके विचारों को पहुँचाने की इस योजना में सर्वश्री मनोहर पंवार, प्रकाश घागरे, रंजीत, नरेन्द्र देव हिंगवे, भरत प्रजापति, गोविंद सूर्यवंशी आदि की टोली मुख्य रूप से सक्रिय रही। 

  •  छिंदवाड़ा जोन के जिला संयोजक श्री शिवनारायण साहू ने ज्ञानरथ से औद्यागिक क्षेत्र का मंथन किया। 
  •  श्री उमाजी चिंडे, प्राचार्य माँ भगवती मंगल कार्यालय बोरगाँव ने गृहस्थ जीवन के आदर्श सूत्रों के विस्तार के लिए अपनी ओर से वर-वधू की प्रतिज्ञाएँ, ‘असे असावे घर’ तथा ‘विवाह एक पवित्र बंधन आहे’ शीर्षक की पुस्तकें ५००० की संख्या में वितरित किये। 
  •  श्री किशनराव तांडेकर गुरुजी (लोधीखेड़ा) ने परम पूज्य गुरुदेव के चित्र और उनके जीवन परिचय की पुस्तिका की ३००० प्रतियाँ घर-घर स्थापित करायीं।


Write Your Comments Here:


img

दीप यज्ञ , युवा मंडल चित बड़ा गांव बलिया

युवा प्रकोष्ठ अखिल विश्व गायत्री परिवार बलिया के तत्वावधान में युवा मंडल चित बड़ा गांव बलिया द्वारा दीप यज्ञ का आयोजन चित बड़ा गांव के मटिहि ग्राम सभा के शिव मंदिर पर किया गया जिसमे यज्ञ का सञ्चालन श्रीमती.....

img

The Pulsating SIDBI Seminar on Life Style Modification

Shraddeya Drji in concluding session of International Yoga program at Vigyan Bhavan had emphasized on Ahar and Vihaar (Lifestyle). This 14th minute discourse has inspired DIYA to take multiple seminars on Jaisa Aaan waisa maan and Life Style Modification (.....