संतरामपुर /अहमदाबाद :१६ अगस्त :: अखिल विश्व गायत्री परिवार द्वारा चलाये जा रहे वृक्ष गंगा अभियान के अन्तर्गत आदिवासी बहुमूल्य महीसागर जिल्ला संतराम पुर मे ५५५१ तरु रोपण महायज्ञ का आयोजन संपन्न हुआ। इस अवसर पर शांतिकुंज प्रतिनिधि एवं गायत्री धाम सेंधवा के श्री मेवालाल पाटीदार जी  ने वृक्षों का मनुष्य जीवन में क्या महत्व है उस पर प्रकाश डाला। उन्हों ने कहा की वृक्ष जन्म से लेकर मृत्यु तक हर समय हमारे जीवन में उपयोगी है। ऊपर से हम तो वनवासी कहलाते है अर्थात वे जो वन में वास करे। आज जहाँ धीरे धीरे वन ही समाप्त हो रहे है वहां वनवासी कहाँ से रह पाएंगे  ? संतरामपुर तहसील के हीरापुर खेरमाड में विराट जन मेदनी को सम्बोधित करते हुए उन्हों ने तरुपुत्र - तरुमित्र बनने की आवश्यकता पर जोर दिया। उपस्थित जन समूह ने श्रीराम स्मृति उपवन में अपनी और से एक तरु लगाया और साथ ही उसके लालन पालन की जिम्मेदारी भी उठाई। २ एकड़ के इस उपवन में ५,५५१ वृक्ष रोपें गए। उल्लेखनीय है की शांतिकुंज हरिद्वार द्वारा विश्वभर में वृक्ष गंगा अभियान चलाया जा रहा है, जिसके अंतर्गत भारतभर में अब तक ६० लाख से अधिक वृक्ष लगाये जा चुके है। इस वर्ष के समापन तक एक करोड़ वृक्ष लगाने का संकल्प है। साथ ही अब तक १०० से अधिक पहाड़ियों को हरा भरा बनाया जा चूका है। 

गुजरात के नवनिर्मित महीसागर एवं अरवल्ली जिले में स्वास्थ्य पार्क बनाने की योजना पर कार्य चल रहा है। अरवल्ली जिले के मोडासा में एक्यूप्रेसर पथ का लोकार्पण भी जल्द ही होने जा रहा है।



Write Your Comments Here:


img

शांतिकुंज में पर्यावरण दिवस पर हुए विविध कार्यक्रम

वृक्षारोपण वायु प्रदूषण से बचने का सर्वमान्य उपाय - श्रद्धेय डॉ. पण्ड्याजीसंस्था की अधिष्ठात्री ने नागकेशर के पौधा का किया पूजनसायंकालीन सभा में भारतीय संस्कृति व पर्यावरण संरक्षण के लिए हुए संकल्पितहरिद्वार 5 जून।अखिल विश्व गायत्री परिवार के मुख्यालय शांतिकुंज.....

img

चट्टानी जमीन पर रोपे ११०० पौधे

कठिन परिस्थितियाँ, पक्का इरादातरुपुत्र महायज्ञ संयोजक गायत्री परिवार के श्री मनोज तिवारी एवं श्री कीर्ति कुमार जैन ने बताया-चट्टानी जमीन पर वृक्षारोपण के लिए आठ दिन पहले से ही गड्ढे खोदे जा रहे थे।सिंचाई के लिए निकट ही ५०० बोरी.....

img

वृक्ष गंगा अभियान के तहत किया 5001पौधों का रोपण , शाजापुर ( मप्र )

कालापीपल मंडी।बचपन के पालने से लेकर अंत्येष्टी की लकड़ी तक वृक्षों से प्राप्त होती है। वृक्ष प्राणी जगत को आधार देते हैं। वे संसार का विष पीकर प्राण वायु प्रदान करते हैं। एक मनुष्य को संपूर्ण जीवन में जितनी ऑक्सीजन.....