छिद्दरवाला के विद्यालयों और घरों में रोपे १०८ पौधे
T
शांतिकुंज ने १२ अगस्त को हरिद्वार-देहरादून राजमार्ग पर स्थित छिद्दरवाला गाँव में बृहद् वृक्षारोपण अभियान चलाते हुए १०८ पौधे रोपे। ये पौधे गाँव के राजकीय इंटर कॉलेज, पूर्व माध्यमिक विद्यालय, प्राथमिक विद्यालय, देवालयों और अनेक परिजनों के आवासीय परिसर में रोपे गये। 

वृक्षारोपण अभियान का शुभारंभ राजकीय इंटर कॉलेज से हुआ। ग्राम सरपंच श्रीमती पूनम पोखरियाल, प्रधानाचार्य श्रीमती इंद्रा नेगी, प्रवक्ता श्री रामसिंह कटियार, श्री अशर्फीलाल एवं समस्त शिक्षक, शांतिकुंज प्रतिनिधियों के साथ ५०० विद्यार्थियों ने वृक्षारोपण में भाग लिया। शांतिकुंज प्रतिनिधि श्री सदानंद आंबेकर एवं श्री मनीष चौरिया ने विद्यार्थियों को वृक्षों का महत्त्व बताया। उन्होंने कहा कि पर्यावरण संरक्षण की दृष्टि से वृक्ष शिवस्वरूप हैं, वे जहर पीकर प्राणवायु देते हैं। वे हमारे महान शिक्षक भी हैं। हमारा जीवन वृक्षों की तरह ही सहनशील, सर्वोपयोगी और उदार होना चाहिए।   

प्रधानाचार्या श्रीमती नेगी ने आभार ज्ञापन से पूर्व शांतिकुंज द्वारा बच्चों के बीच नशामुक्ति, पर्यावरण संरक्षण और व्यक्तित्व विकास के लिए चलाये जा रहे अभियान की सराहना की।  

गाँव में जगह-जगह हुए वृक्षारोपण में मिशन से जुड़े सक्रिय कार्यकर्त्ता श्री अशर्फीलाल का विशेष योगदान रहा। गाँव के कुछ सहयोगियों और शांतिकुंज प्रतिनिधियों ने मिलकर जगह-जगह वृक्षारोपण किया। वृक्षारोपण के प्रति बढ़ती जागरूकता का ही परिणाम था कि लोग स्वेच्छा से पौधे माँगते और उनके संरक्षण, पोषण का आश्वासन देते हुए अपने आवास पर रोपते दिखाई दिये। 



Write Your Comments Here:


img

शांतिकुंज में पर्यावरण दिवस पर हुए विविध कार्यक्रम

वृक्षारोपण वायु प्रदूषण से बचने का सर्वमान्य उपाय - श्रद्धेय डॉ. पण्ड्याजीसंस्था की अधिष्ठात्री ने नागकेशर के पौधा का किया पूजनसायंकालीन सभा में भारतीय संस्कृति व पर्यावरण संरक्षण के लिए हुए संकल्पितहरिद्वार 5 जून।अखिल विश्व गायत्री परिवार के मुख्यालय शांतिकुंज.....

img

चट्टानी जमीन पर रोपे ११०० पौधे

कठिन परिस्थितियाँ, पक्का इरादातरुपुत्र महायज्ञ संयोजक गायत्री परिवार के श्री मनोज तिवारी एवं श्री कीर्ति कुमार जैन ने बताया-चट्टानी जमीन पर वृक्षारोपण के लिए आठ दिन पहले से ही गड्ढे खोदे जा रहे थे।सिंचाई के लिए निकट ही ५०० बोरी.....

img

वृक्ष गंगा अभियान के तहत किया 5001पौधों का रोपण , शाजापुर ( मप्र )

कालापीपल मंडी।बचपन के पालने से लेकर अंत्येष्टी की लकड़ी तक वृक्षों से प्राप्त होती है। वृक्ष प्राणी जगत को आधार देते हैं। वे संसार का विष पीकर प्राण वायु प्रदान करते हैं। एक मनुष्य को संपूर्ण जीवन में जितनी ऑक्सीजन.....