पीथमपुर, धार (मध्य प्रदेश)
गायत्री परिवार की पीथमपुर शाखा ने स्थानीय श्मशान घाट पर इस वर्ष माँ भगवती विहार की स्थापना भी की है। इस वर्ष इस उद्यान में ३००-४०० पौधे रोपे गये और उनकी सुरक्षा के लिए तार फैंसिंग आदि का प्रबंध किया गया। श्री योगेश उपाध्याय जी के अनुसार इस स्थापना में डॉ. केलोत्रा का विशेष योगदान रहा, जिन्होंने इसके माध्यम से अपने पूर्वजों की स्मृति को अक्षुण्ण बनाने का प्रयास किया है। 

उल्लेखनीय है कि पीथमपुर शाखा इसी श्मशान घाट पर पूर्व में श्रीराम स्मृति उपवन की स्थापना कर चुकी है। वहाँ शाखा द्वारा लगाये गये २५० पौधे अब ८-१० फीट ऊँचे हो गये हैं। 

बाँदीकुई, दौसा (राजस्थान)
वृक्षगंगा अभियान में हर वर्ष उत्साहपूर्वक भागीदरी करने वाली बाँदीकुई शाखा ने इस वर्ष भी सामूहिक वृक्षारोपण कार्यक्रम आयोजित किया। इस क्रम में सेवापुरा आभानेदी और ऊन बड़ागाँव में स्थापित गायत्री उपवन में पौधे रोपे गये। पीपल, बड़, नीम, अशोक, आँवला, बेल आदि के १०० पौधे रोपने के साथ उनकी सुरक्षा की व्यवस्था की गयी। 


Write Your Comments Here:


img

शांतिकुंज में पर्यावरण दिवस पर हुए विविध कार्यक्रम

वृक्षारोपण वायु प्रदूषण से बचने का सर्वमान्य उपाय - श्रद्धेय डॉ. पण्ड्याजीसंस्था की अधिष्ठात्री ने नागकेशर के पौधा का किया पूजनसायंकालीन सभा में भारतीय संस्कृति व पर्यावरण संरक्षण के लिए हुए संकल्पितहरिद्वार 5 जून।अखिल विश्व गायत्री परिवार के मुख्यालय शांतिकुंज.....

img

चट्टानी जमीन पर रोपे ११०० पौधे

कठिन परिस्थितियाँ, पक्का इरादातरुपुत्र महायज्ञ संयोजक गायत्री परिवार के श्री मनोज तिवारी एवं श्री कीर्ति कुमार जैन ने बताया-चट्टानी जमीन पर वृक्षारोपण के लिए आठ दिन पहले से ही गड्ढे खोदे जा रहे थे।सिंचाई के लिए निकट ही ५०० बोरी.....

img

वृक्ष गंगा अभियान के तहत किया 5001पौधों का रोपण , शाजापुर ( मप्र )

कालापीपल मंडी।बचपन के पालने से लेकर अंत्येष्टी की लकड़ी तक वृक्षों से प्राप्त होती है। वृक्ष प्राणी जगत को आधार देते हैं। वे संसार का विष पीकर प्राण वायु प्रदान करते हैं। एक मनुष्य को संपूर्ण जीवन में जितनी ऑक्सीजन.....