गायत्री परिवार ने छेड़ा पर्यावरण मित्र प्रतिमाओं का अभियान

Published on 2015-10-04
img

अखिल विश्व गायत्री परिवार की पहल पर प्लास्टर आफ पेरिस की विशालकाय मूर्तियों के स्थान पर पर्यावरण मित्र प्रतिमाएं देशव्यापी स्तर पर प्रतिष्ठित की जा रही हैं। गणेश विसर्जन के दौरान अभियान को मिली सफलता के बाद दुर्गा पूजन के दौरान भी यह मुहिम जारी रहेगी।  
अखिल विश्व गायत्री परिवार के मुख्यालय शांतिकुंज में पर्यावरण कार्यकर्ताओ की एक गोष्ठी को संबोधित करते हुए गायत्री परिवार प्रमुख और देव संस्कृति विश्वविद्यालय के कुलाधिपति डा0 प्रणव पण्ड्या के अनुसार हमारी संस्कृति प्रकृति की आराधक है इसलिए किसी भी देवी-देवता की आराधना प्रकृति को क्षति पहुंचाकर नहीं बल्कि उसका संरक्षण करके ही की जा सकती है। उन्होंने बताया कि लगभग आठ करोड़ साधकों के गायत्री परिवार ने पर्यावरण मित्र प्रतिमाओं की एक देश व्यापी मुहिम चलायी है। इसके लिए मिट्टी एवं सुपारी की मूर्तियों को बढ़ावा दिया जा रहा है। उन्होंने कहा कि गणेश विसर्जन के बाद यह पहल शक्ति उपासना के पर्व दुर्गा पूजा में और जोर पकड़ेगी। 
प्लास्टर आफ पेरिस की मूर्तियों के निर्माण के प्रमुख केन्द्र बुरहानपुर, मध्य प्रदेश में पर्यावरण मित्र प्रतिमाओं की पहल कर रहे मनोज तिवारी के मुताबिक इस शहर में इस साल लगभग आठ हजार मिट्टी की गणेश प्रतिमाओं का निर्माण हुआ , जो लगभग कुल मूर्ति निर्माण का पचीस फीसदी था। पर्यावरण मित्र प्रतिमाओं का संदेश लोगों तक पहुंचाने के लिए गायत्री परिवार ने लगभग दस हजार विद्यार्थियों को अपनी मुहिम से जोड़ा। इसके अलावा मूर्तियों के साथ विसर्जित होने वाले वस्त्र, हार, पूजन सामग्री आदि को विघटित कर खाद बनाने की मुहिम भी परिवार ने चलाई है। 
गायत्री परिवार के युवा प्रकोष्ठ के मुम्बई के प्रवक्ता जतिन दवे ने बताया कि मुम्बई के युवाओं ने गणेश विसर्जन के दूसरे दिन जुहू चैपाटी पर श्रमदान के माध्यम से स्वच्छता अभियान चलाया। श्री दवे के मुताबिक प्लास्टर आफ पेरिस की मूर्तियों के कारण स्थान स्थान पर अर्ध विसर्जित मूर्तियों को जैविक विघटन का अभियान चलाया गया जिसने जल को प्रदूषित होने से बचाया जा सके। 
कोलकाता में गायत्री परिवार से सम्बद्ध इन्वायरमेंटल संडे संस्था के प्रभारी रवि शर्मा ने बताया कि शहर मे में पर्यावरण मित्र प्रतिमाओं को बढ़ावा देने के लिए दुर्गा पूजा क्लबों से संपर्क अभियान चलाया गया है। इस साल लाखांे लोगों की आस्था के केन्द्र पीएलएस नगर पंडाल समेत अनेक स्थानों पर इस बार मिट्टी की प्रतिमाएं सुशोभित होंगी। 
 गायत्री परिवार में सप्त आंदोलन प्रभारी  केदार प्रसाद दुबे ने बताया कि गायत्री परिवार ने नदियों के संरक्षण के लिए हरी चूनर अभियान चलाया है, जिसके अंतर्गत मध्य प्रदेश में नर्मदा और ताप्ती, राजस्थान की बनास आदि नदियों के किनारों छायादार वृक्ष लगाने का कार्य प्रगति पर है। हर पर्व पर गायत्री परिवार प्रसाद के रूप् में पौध वितरण का अभियान चला रहा है। अब तक एक करोड़ पौधों का वितरण किया जा चुका है, जिसका परिणाम आने वाले वर्षों में समाज को मिलेगा। 

img

विभिन्न संगठनों के साथ मिलकर गायत्री परिवार ने चलाया ‘ताप्ती शुद्धि अभियान’

बुरहानपुर : बुरहानपुर में गायत्री परिवार ने विभिन्न संगठनों के साथ मिलकर ताप्ती अंचल शुद्धि अभियान चलाया । इस अभियान में पतंजलि योग पीठ के साथ विभिन्न सामाजिक संगठनों ने हिस्सा लिया । कार्यक्रम में जिला कलेक्टर श्री दीपक सिंह, नगर.....

img

जल स्त्रोत शुद्धीकरण एवं स्वछता अभियान – गोरेगाँव (जि. गोंदिया,महा.)

गोरेगाँव : अखिल विश्व गायत्री परिवार द्वारा चलाए जा रहे 7 सूत्रीय आंदोलन के राष्ट्रीय सम्मेलन (अक्टूबर २०१६ – हरिद्वार) में गायत्री परिवार गोरेगाँव (जि.गोंदिया,महा.) एवं दिया युवा संघटना के साथियों ने भी संकल्प लिया था। इसी के तहत स्वच्छता एवं जल स्त्रोत शुद्धिकरण.....