Published on 2016-09-06
img

लोकमान्य बालगंगाधर तिलक ने गणेशोत्सव की परम्परा को स्वतंत्रता सेनानियों के सम्मेलन का आधार बनाया था। उन दिनों के उत्सवों में विध्नविनाशक गणपति बापा से देश को मुक्ति दिलाने की प्रार्थना भी होती थी और उसके लिए आवश्यक त्याग- बलिदान की राह पर चलते हुए योजनाएँ बनायीं व क्रियान्वित की जाती थीं।

आज परम्पराएँ बदल गयी हैं। लोग मनोकामनापूर्ति और मनोरंजन के लिए सामाजिक हितों को भूलते जा रहे हैं। बड़े समारोह और आकर्षण के चक्कर में प्लास्टर ऑफ पेरिस की प्रतिमाएँ, रासायनिक रंग व प्लास्टिक- पॉलीथीन के सजावटी सामानों से जल, जमीन और जनजीवन दूषित हो रहे हैं। फूहड़ मनोरंजन से मानसिक प्रदूषण बढ़ता है।

आइये! भूल सुधारें, गणेशोत्सव की सार्थकता को समझें और इन आयोजनों के माध्यम से अपनी श्रद्धा को पोषित करने के साथ पर्यावरण संरक्षण की स्वस्थ परम्पराएँ चल पड़ें, ऐसे कुछ प्रयास किये जायें। गायत्री परिवार और ऐसी ही मानसिकता वाले अन्य संगठन यदि संकल्पपूर्वक कुछ आदर्शों को अपना लें तो एक बड़ी क्रान्ति को जन्म दे सकते हैं।

करने योग्य कुछ सुझाव :-
• पर्यावरण को दूषित न करने वाली प्रतिमाएँ ही स्थापित की जायें। बड़े सार्वजनिक स्थानों पर मिट्टी की बनी और हानि रहित प्राकृतिक रंगों से रंगी प्रतिमाएँ स्थापित हों तथा घरों में सुपारी या ऐसे ही पदार्थों से बनीं प्रतिमाएँ स्थापित की जायें।

नोट : मध्य प्रदेश, महाराष्ट्र आदि राज्यों में अनेक शक्तिपीठों पर इन्हें बनाया जा रहा है, बनाने का प्रशिक्षण दिया जा रहा है। परिजन शांतिकुंज के युवा प्रकोष्ठ से संपर्क कर इनमें अपने निकटतम शक्तिपीठ का सहयोग ले सकते हैं। प्रयास किया जाना चाहिए कि यह इस वर्ष पूरे देश में एक आन्दोलन का रूप ले ले। अगले वर्ष हर शक्तिपीठ पर ऐसी गणेश प्रतिमाएँ बनाने और उन्हें घर- घर उपलब्ध कराने का अभियान चल पड़े।

• प्रतिदिन चढ़ाये जाने वाले फूल- हार व अन्य पुजापे को सार्वजनिक रूप से एकत्रित कर उनकी खाद बनाने की योजना बनायी जाये।
• प्रतिमाओं का जलस्रोतों में नहीं, उनके किनारे विशेष कुण्ड बनाकर विसर्जन किया जाये।
• कार्यक्रम स्थल को प्रभावशाली प्रेरणादायी सद्वाक्यों से सजाया जाय। इनके माध्यम से राष्ट्र की ज्वलंत समस्याओं की ओर लोगों का ध्यान दिलाया जाय, क्षेत्रीय स्तर पर उनके निवारण के लिए विचार मंथन हो, अभियान आरंभ किये जायें।
• सार्वजनिक गणेश मण्डल सामूहिक स्वच्छता अभियान चलायें।
• प्रत्येक मण्डल को वृक्षारोपण के लिए प्रेरित किया जाये।
• वृक्षारोपण, व्यसनमुक्ति, जल संरक्षण एवं सद्वाक्यों के स्टिकर प्रसाद के रूप में श्रद्धालुओं को दिये जा सकते हैं।
• सांस्कृतिक कार्यक्रमों के माध्यम से लोगों, विशेषकर युवक- युवतियों को अपने समाज के आदर्श विकास की गतिविधियों में शामिल करने की प्रेरणा दी जाये, आगे की योजना बनायी जाये।


Write Your Comments Here:


img

युगावतार के लीला संदोह को समझें, युग देवता के साथ भागीदारी बढ़ायें

अग्रदूतों को खोजने, उभारने और सामर्थ्यवान बनाने का क्रम प्रखरतर बनायें

युगऋषि और प्रज्ञावतार
युगऋषि के माध्यम से नवयुग की ईश्वरीय योजना की जानकारी युगसाधकों को मिली। इस प्रचण्ड और व्यापक क्रांतिकारी परिवर्तन चक्र को घुमाने के लिए परमात्मसत्ता प्रज्ञावतार के रूप.....

img

अखण्ड ज्योति पाठक सम्मेलन, छत्तीसगढ़

मगरलोड, धमतरी। छत्तीसगढ़

जिला संगठन धमतरी ने मगरलोड में अखण्ड ज्योति पत्रिका के पाठकों का सम्मेलन आयोजित कर क्षेत्रीय मनीषा को परम पूज्य गुरुदेव के क्रांतिकारी विचारों से अवगत कराया। अखण्ड ज्योति के अनेक पाठकों ने आत्मानुभूतियाँ बतायीं। सम्मेलन से प्रभावित.....

img

वड़ोदरा में एक परिजन हर हफ्ते लगाती हैं युग साहित्य स्टॉल

वड़ोदरा : वड़ोदरा में एक गायत्री परिजन हर हफ्ते युग साहित्य स्टॉल लगाती हैं । उनके साहित्य स्टॉल से लोग पुस्तकें खरीदते हैं और जीवन के विभिन्न क्षेत्रों से सम्बंधित गुरुदेव का मार्गदर्शन प्राप्त करते हैं । परिजन का यह प्रयास.....