अखण्ड ज्योति पाठक सम्मेलन, छत्तीसगढ़

Published on 2017-12-09
img

मगरलोड, धमतरी। छत्तीसगढ़

जिला संगठन धमतरी ने मगरलोड में अखण्ड ज्योति पत्रिका के पाठकों का सम्मेलन आयोजित कर क्षेत्रीय मनीषा को परम पूज्य गुरुदेव के क्रांतिकारी विचारों से अवगत कराया। अखण्ड ज्योति के अनेक पाठकों ने आत्मानुभूतियाँ बतायीं। सम्मेलन से प्रभावित श्रोताओं ने दो-दो नये पाठक बनाने के संकल्प लिये।

जिला समन्वयक श्री दिलीप नाग ने अखण्ड ज्योति पाठक सम्मेलन को संबोधित करते हुए परम पूज्य गुरुदेव का कथन दोहराया कि समाज में परिवर्तन हथियार, गोला-बारूद एवं बंदूकों से नहीं बल्कि लोगों के विचारों  में परिवर्तन लाकर किया जा सकता है। श्री डोमार हिरवानी ने कहा कि परम पूज्य गुरुदेव के विचारों में सोयों को जगाने, जागों को चलाने और चलते हुओं को दौड़ाने की सामर्थ्य है।
 
वरिष्ठ साहित्यकार श्री पुनूराम राज ने कहा कि वे ४८ वर्षों से अखण्ड ज्योति के पाठक हैं और उन्हें इस पत्रिका से साहित्य रचना में भरपूर मदद मिली है। राष्ट्रपति पुरस्कार से सम्मानित शिक्षक श्री दयाराम  साहू ने दृढ़ विश्वास व्यक्त किया कि अखण्ड ज्योति के पाठकों का चरित्र, चिंतन और व्यवहार बदलता चला जाता है। शिक्षिका श्रीमती साहू, मोहेरा जी ने भी अपनी अनुभूतियों से पाठकों को अवगत कराया।


Write Your Comments Here:


img

युगावतार के लीला संदोह को समझें, युग देवता के साथ भागीदारी बढ़ायें

अग्रदूतों को खोजने, उभारने और सामर्थ्यवान बनाने का क्रम प्रखरतर बनायें

युगऋषि और प्रज्ञावतार
युगऋषि के माध्यम से नवयुग की ईश्वरीय योजना की जानकारी युगसाधकों को मिली। इस प्रचण्ड और व्यापक क्रांतिकारी परिवर्तन चक्र को घुमाने के लिए परमात्मसत्ता प्रज्ञावतार के रूप.....

img

वड़ोदरा में एक परिजन हर हफ्ते लगाती हैं युग साहित्य स्टॉल

वड़ोदरा : वड़ोदरा में एक गायत्री परिजन हर हफ्ते युग साहित्य स्टॉल लगाती हैं । उनके साहित्य स्टॉल से लोग पुस्तकें खरीदते हैं और जीवन के विभिन्न क्षेत्रों से सम्बंधित गुरुदेव का मार्गदर्शन प्राप्त करते हैं । परिजन का यह प्रयास.....

img

अनूठा प्रयोग करने वाला है देसंविवि : आदरणीय डॉ. प्रणव पण्ड्याजी

हरिद्वार : १५ अप्रैल।देसंविवि के कुलाधिपति डॉ. प्रणव पण्ड्याजी ने कहा कि जीवन विद्या के आलोक केन्द्र एवं ज्ञान- विज्ञान के प्रकाशस्तंभ के रूप में इस विश्वविद्यालय का सृजन युगऋषि पं. श्रीराम शर्मा आचार्य जी के दिव्य संकल्प से हुआ.....