Published on 2017-01-02
img

युवा क्रांति वर्ष के उपलक्ष्य में गायत्री शक्तिपीठ केशरबाग, इन्दौर का विशेष अभियान
भाग ले रहे हैं ८० भाई- बहिन

• अभियान साधना
एक वर्षीय अभियान साधना में एक वर्ष में ५ लाख गायत्री महामंत्र जप का विधान है। इसके लिए प्रत्येक रविवार को १५ माला, एकादशी के दिन २४ माला और शेष दिनों में प्रतिदिन ११ माला गायत्री महामंत्र का जप करना होता है। आहार- विहार में साधकोचित संयम रखने का विधान है। (विस्तृत जानकारी के लिए देखें गायत्री महाविज्ञान, भाग- २)

इंदौर (मध्य प्रदेश)
गायत्री शक्तिपीठ केशर बाग इंदौर द्वारा युवा क्रांंति वर्ष के विशेष अभियान के रूप में सामूहिक अभियान साधना को प्रोत्साहित किया गया। परिणामस्वरूप शक्तिपीठ से जुड़े ८० बहिन भाई १२ अक्टूबर २०१६ से ही एक वर्षीय अभियान साधना कर रहे हैं। वे सभी निर्धारित समय पर अपने ही घर जप करते हैं और हर माह के शुक्ल पक्ष की एकादशी को शक्तिपीठ आकर १०८ गायत्री महामंत्र से सामूहिक यज्ञाहुतियाँ समर्पित करते हैं।

साधना से आत्मबल की वृद्धि, आत्मिक पवित्रता, विचार शुद्धि, युगशक्ति की प्रखरता से घर- परिवार की सुख- शांति, समृद्धि जैसे लाभ तो सहज ही मिलते हैं, लेकिन इस अभियान साधना का लक्ष्य आसुरी शक्तियों द्वारा प्रेरित आतंक, अनाचार, दुराचार जैसी वीभत्स्य सामाजिक समस्याओं का उन्मूलन भी रखा गया है। इसके लिए साधक ‘क्लीं’ बीजमंत्र के साथ गायत्री मंत्र जप, यज्ञ का विशेष प्रयोग भी कर रहे हैं।


Write Your Comments Here:


img

युगावतार के लीला संदोह को समझें, युग देवता के साथ भागीदारी बढ़ायें

अग्रदूतों को खोजने, उभारने और सामर्थ्यवान बनाने का क्रम प्रखरतर बनायें

युगऋषि और प्रज्ञावतार
युगऋषि के माध्यम से नवयुग की ईश्वरीय योजना की जानकारी युगसाधकों को मिली। इस प्रचण्ड और व्यापक क्रांतिकारी परिवर्तन चक्र को घुमाने के लिए परमात्मसत्ता प्रज्ञावतार के रूप.....

img

अखण्ड ज्योति पाठक सम्मेलन, छत्तीसगढ़

मगरलोड, धमतरी। छत्तीसगढ़

जिला संगठन धमतरी ने मगरलोड में अखण्ड ज्योति पत्रिका के पाठकों का सम्मेलन आयोजित कर क्षेत्रीय मनीषा को परम पूज्य गुरुदेव के क्रांतिकारी विचारों से अवगत कराया। अखण्ड ज्योति के अनेक पाठकों ने आत्मानुभूतियाँ बतायीं। सम्मेलन से प्रभावित.....

img

वड़ोदरा में एक परिजन हर हफ्ते लगाती हैं युग साहित्य स्टॉल

वड़ोदरा : वड़ोदरा में एक गायत्री परिजन हर हफ्ते युग साहित्य स्टॉल लगाती हैं । उनके साहित्य स्टॉल से लोग पुस्तकें खरीदते हैं और जीवन के विभिन्न क्षेत्रों से सम्बंधित गुरुदेव का मार्गदर्शन प्राप्त करते हैं । परिजन का यह प्रयास.....