Published on 2017-02-02

हरिद्वार २५ फरवरी।

गायत्री परिवार प्रमुख डॉ. प्रणव पण्ड्याजी एवं संस्था की अधिष्ठात्री शैलदीदीजी ने शांतिकुंज में उत्तराखण्ड का पहला प्राकृतिक जल शोधक संयंत्र का पूजन कर शुभारंभ किया। इस संयंत्र की क्षमता प्रति घंटे पचास हजार लीटर पानी स्वच्छ करने की है।

इस अवसर पर डॉ. पण्ड्याजी ने कहा कि हरिद्वार के पानी में आयरन व सिल्ट की मात्रा अधिक रहती है जिससे कई तरह की बीमारियाँ होने का भय रहता है। इससे निजात पाने के लिए शांतिकुंज ने प्राकृतिक जल शोधक संयंत्र का निर्माण कराया है जो कई मायनों में फायदेमंद है। कहा कि इस संयंत्र द्वारा पानी में घुले हुए आयरन, सिल्ट एवं पानी के रंग को साफ किया जाता है। संस्था की अधिष्ठात्री शैल दीदी ने कहा कि यह संयंत्र पूरी तरह प्राकृतिक है जिससे पानी के सभी तत्व मौजूद रहते हैं।

विभाग के इंजीनियर श्री जयसिंह यादव ने बताया कि संयंत्र में पानी के आयरन व सिल्ट को एरिएटर के द्वारा हवा व धूप से ज्यादा से ज्यादा संपर्क कराकर उसके आयरन तत्व को कम किया जाता है। फिर फिटकरी और ब्लिचिंग को मिलाकर इसमें घुले हुए सिल्ट को फ्लोकुलेटर के द्वारा फ्लोक्स बनाकर आगे क्लियरिफायर के द्वारा शोधन किया जाता है। इसके पश्चात प्राकृतिक पद्धति से आयरन व सिल्ट को कम करने के लिए विशेष रूप से तैयार किये गये फिल्टर से उसे छाना जाता है, जिसमें पानी को बालू, रेत, बजरी, ग्रेवल, पेवल, बोल्डर की कुल दस परतों के रेपिट ग्रेविटी फिल्टर के माध्यम से छानकर पानी को टंकी में एकत्र किया जाता है, फिर सप्लाई किया जाता है। उन्होंने बताया कि इस संयंत्र की क्षमता प्रति घंटे पचास हजार लीटर पानी स्वच्छ करने की है।


Write Your Comments Here:


img

युगावतार के लीला संदोह को समझें, युग देवता के साथ भागीदारी बढ़ायें

अग्रदूतों को खोजने, उभारने और सामर्थ्यवान बनाने का क्रम प्रखरतर बनायें

युगऋषि और प्रज्ञावतार
युगऋषि के माध्यम से नवयुग की ईश्वरीय योजना की जानकारी युगसाधकों को मिली। इस प्रचण्ड और व्यापक क्रांतिकारी परिवर्तन चक्र को घुमाने के लिए परमात्मसत्ता प्रज्ञावतार के रूप.....

img

अखण्ड ज्योति पाठक सम्मेलन, छत्तीसगढ़

मगरलोड, धमतरी। छत्तीसगढ़

जिला संगठन धमतरी ने मगरलोड में अखण्ड ज्योति पत्रिका के पाठकों का सम्मेलन आयोजित कर क्षेत्रीय मनीषा को परम पूज्य गुरुदेव के क्रांतिकारी विचारों से अवगत कराया। अखण्ड ज्योति के अनेक पाठकों ने आत्मानुभूतियाँ बतायीं। सम्मेलन से प्रभावित.....

img

वड़ोदरा में एक परिजन हर हफ्ते लगाती हैं युग साहित्य स्टॉल

वड़ोदरा : वड़ोदरा में एक गायत्री परिजन हर हफ्ते युग साहित्य स्टॉल लगाती हैं । उनके साहित्य स्टॉल से लोग पुस्तकें खरीदते हैं और जीवन के विभिन्न क्षेत्रों से सम्बंधित गुरुदेव का मार्गदर्शन प्राप्त करते हैं । परिजन का यह प्रयास.....