देसंविवि में आयोजित उत्सव- १७ सांस्कृतिक कार्यक्रम के साथ सम्पन्न

Published on 2017-03-11

सोलो डांस में श्वेता मलिक ने मोहा मन, कुलाधिपति डॉ. पण्ड्याजी ने बाँटे पुरस्कार

हरिद्वार ११ मार्च।

देवसंस्कृति विश्वविद्यालय के १५वाँ वार्षिकोत्सव का पुरस्कार वितरण एवं सांस्कृतिक कार्यक्रम के साथ समापन हो गया। इस अवसर पर कुलाधिपति डॉ. प्रणव पण्ड्याजी ने प्रतिभागियों की खेल भावना को सराहा। विभिन्न प्रतियोगिताओं में प्रथम, द्वितीय आये छात्र- छात्राओं को उन्होंने प्रशस्ति पत्र एवं मेडल भेंटकर सम्मानित किया। इस अवसर पर कुलाधिपति डॉ. पण्ड्याजी ने कहा कि शारीरिक व बौद्धिक प्रतियोगिता का सम्मिश्रण ने युवाओं में उत्साह जगाया है।

खेल अधिकारी श्री नरेन्द्र सिंह एवं विक्रांत वाधवा ने कहा कि खेलकूद के अंतर्गत छात्र- छात्राओं ने भी अपना दमखम दिखाया। उत्सव- २०१७ में खेल विभाग के अन्तर्गत ४१४ पुरस्कार बाँटे गये। छात्र वर्ग के १०० मीटर दौड में गौरव, २०० मीटर में रोमांचल नायक, ४०० मीटर में अमरेश गिरि, ८०० एवं १५०० मीटर में दीपक शर्मा ने बाजी मारी। छात्रा वर्ग के १०० मीटर व २०० मीटर दौड़ में गरिमा पटेल ने तथा ४००, ८०० व १५०० मीटर दौड़ में श्वेता सिद्धू ने प्रथम स्थान प्राप्त किया। तो वहीं चैस, कैरम में काँटे की टक्कर में अजय प्रभाकर एवं शुभम पालीवाल ने अपनी प्रतिद्वन्दी को पछाड़ा। हेमर थ्रो में शिखर साहू ने प्रथम स्थान हासिल किया। छात्र वर्ग के रिले रेस में सत्यम प्रकाश एवं हेमन्त पाटीदार की टीम ने तथा छात्रा वर्ग निधि वर्मा की टीम ने जीत दर्ज की। लम्बी कूद में अंकुश एवं त्रिकूद में रतन सिंह ने प्रथम स्थान प्राप्त किया। कबड्डी, खोखो, बालीबाल, बास्केट बाल आदि खेलों में भी विद्यार्थियों ने अपना जौहर दिखाया।

सांस्कृतिक प्रकोष्ठ के प्रभारी डॉ. शिवनारायण प्रसाद ने बताया कि इस वर्ष शास्त्रीय संगीत, डॉस, क्वीज प्रतियोगिताओं में प्रतिभागियों ने अपनी कला, कौशल का जबरदस्त प्रदर्शन किया। प्रतियोगिताओं में हार और जीत होती रहती है। इस वर्ष अधिकतर छात्र- छात्राओं ने अपने साथियों के हार को जीत में बदल दिया। रंगोली में पूजा सिंह, मेंहदी में प्रियंका, ढपली में नंदकुमार, एकल प्रज्ञागीत में प्रतीक्षा उपाध्याय, समूह नृत्य में ऋदम ग्रुप, एकल शास्त्रीय में संगीत प्रतीक्षा उपाध्याय, चित्रकला में शारदा, कविता पाठ में शीतल यादव, क्विज में राजाराम ग्रुप ने प्रथम स्थान प्राप्त किया। तो वहीं शास्त्रीय सोलो नृत्य में त्रिताल की धुन पर श्वेता मलिक ने उपस्थित लोगों की खूब तालियाँ बटोरते हुए प्रथम स्थान प्राप्त किया। अन्त्याक्षरी ढपली ग्रुप ने प्रथम प्राप्त किया।

समापन समारोह में राष्ट्रीय भक्ति से ओतप्रोत लघुनाटिका का मंचन किया गया जिसे दर्शकों ने खूब सराहा। तो वहीं वर्तमान में नारी जागरण की आवश्यकता पर बल देते हुए सामूहिक नृत्य ने सभी को रोमांचित किया। युवाओं को अपनी जवानी संभालने एवं निष्कृष्ट विचारों से दूर रहने की प्रेरणा देने वाले संगीत ने युवाओं को नई दिशा दी। इस अवसर पर कुलपति श्री शरद पारधी, प्रतिकुलपति डॉ चिन्मय पण्ड्याजी, कुलसचिव श्री संदीप कुमार, विभागाध्यक्ष एवं समस्त विवि परिवार एवं शांतिकुंज एवं ब्रह्मवर्चस शोध संस्थान के कार्यकर्ता उपस्थित रहे।


img

युगावतार के लीला संदोह को समझें, युग देवता के साथ भागीदारी बढ़ायें

अग्रदूतों को खोजने, उभारने और सामर्थ्यवान बनाने का क्रम प्रखरतर बनायें

युगऋषि और प्रज्ञावतार
युगऋषि के माध्यम से नवयुग की ईश्वरीय योजना की जानकारी युगसाधकों को मिली। इस प्रचण्ड और व्यापक क्रांतिकारी परिवर्तन चक्र को घुमाने के लिए परमात्मसत्ता प्रज्ञावतार के रूप.....

img

अखण्ड ज्योति पाठक सम्मेलन, छत्तीसगढ़

मगरलोड, धमतरी। छत्तीसगढ़

जिला संगठन धमतरी ने मगरलोड में अखण्ड ज्योति पत्रिका के पाठकों का सम्मेलन आयोजित कर क्षेत्रीय मनीषा को परम पूज्य गुरुदेव के क्रांतिकारी विचारों से अवगत कराया। अखण्ड ज्योति के अनेक पाठकों ने आत्मानुभूतियाँ बतायीं। सम्मेलन से प्रभावित.....

img

वड़ोदरा में एक परिजन हर हफ्ते लगाती हैं युग साहित्य स्टॉल

वड़ोदरा : वड़ोदरा में एक गायत्री परिजन हर हफ्ते युग साहित्य स्टॉल लगाती हैं । उनके साहित्य स्टॉल से लोग पुस्तकें खरीदते हैं और जीवन के विभिन्न क्षेत्रों से सम्बंधित गुरुदेव का मार्गदर्शन प्राप्त करते हैं । परिजन का यह प्रयास.....


Write Your Comments Here: