Published on 2017-07-15
img

झुमरीतिलैया (कोडरमा): गायत्री शक्तिपीठ परिवार के द्वारा बड़े पैमाने पर पौधरोपण की योजना तैयार की गई है। शक्तिपीठ के सदस्यों द्वारा एक महीने में झुमरीतिलैया शहर में तीन हजार पौधे लगाने का संकल्प लिया है। अभी तक विभिन्न इलाकों में लगभग एक हजार पौधे लगाए गए हैं। रविवार को झलपो स्थित मदरसा में भी 20 पौधे लगाए गए। गायत्री परिवार की सुनीता ¨सह ने बताया कि डोमचांच में 300, तिलैया के मडुआटांड़ में 50 हीरोडीह में 56 पौधे लगाए गए हैं। इसकी शुरुआत 25 जून को देवी मंडप में की गई। रविवार को ही झलपो स्थित मंदिर में भी पौधारोपण किया गया। इस अवसर पर जिप अध्यक्ष शालिनी गुप्ता ने भी पौधारोपण की। संस्था के द्वारा आम, आंवला, अमरूद, सागवान, पीपल आदि पौधे लगाये जा रहे हैं। जिप अध्यक्ष शालिनी गुप्ता ने कहा कि मानवों का जीवन जुड़ा है। बिना वृक्ष के जीवन की कल्पना नहीं की जा सकती। हर व्यक्ति को कम से कम पांच पौधे लगाने की जरूरत है तभी मानव सुरक्षित रह पाएंगे। सरकार एवं समाज को मिलकर पर्यावरण संरक्षण अभियान को सफल बनाया जा सकता है। शक्तिपीठ के ट्रस्टी अर्जुन राणा, मृत्युंजय भास्कर, निर्मला देवी, रूबी देवी, रीता देवी, रेणु देवी, शांति देवी, देवंती देवी, निशा कुमारी, सुशीला देवी, विनोद राय ने कहा कि पौधारोपण दिनचर्या में शामिल करने की जरूरत है। शादी-विवाह, संतान प्राप्ति, जन्म दिन, शादी की सालगिरह तथा हर आम व खास मौके पर लोगों को पौधारोपण करने की जरूरत है।


Write Your Comments Here:


img

शांतिकुंज में पर्यावरण दिवस पर हुए विविध कार्यक्रम

वृक्षारोपण वायु प्रदूषण से बचने का सर्वमान्य उपाय - श्रद्धेय डॉ. पण्ड्याजीसंस्था की अधिष्ठात्री ने नागकेशर के पौधा का किया पूजनसायंकालीन सभा में भारतीय संस्कृति व पर्यावरण संरक्षण के लिए हुए संकल्पितहरिद्वार 5 जून।अखिल विश्व गायत्री परिवार के मुख्यालय शांतिकुंज.....

img

चट्टानी जमीन पर रोपे ११०० पौधे

कठिन परिस्थितियाँ, पक्का इरादातरुपुत्र महायज्ञ संयोजक गायत्री परिवार के श्री मनोज तिवारी एवं श्री कीर्ति कुमार जैन ने बताया-चट्टानी जमीन पर वृक्षारोपण के लिए आठ दिन पहले से ही गड्ढे खोदे जा रहे थे।सिंचाई के लिए निकट ही ५०० बोरी.....

img

वृक्ष गंगा अभियान के तहत किया 5001पौधों का रोपण , शाजापुर ( मप्र )

कालापीपल मंडी।बचपन के पालने से लेकर अंत्येष्टी की लकड़ी तक वृक्षों से प्राप्त होती है। वृक्ष प्राणी जगत को आधार देते हैं। वे संसार का विष पीकर प्राण वायु प्रदान करते हैं। एक मनुष्य को संपूर्ण जीवन में जितनी ऑक्सीजन.....