Published on 2017-08-07
img

अखिल विश्व गायत्री परिवार द्वारा पर्यावरण संरक्षण के लिए गुरु पूर्णिमा से श्रावणी पर्व (रक्षाबंधन) तक वृहद वृक्षारोपण अभियान चलाया जा रहा है । इसके अंतर्गत देश के विभिन्न स्थानों पर तरु पुत्र - तरु मित्र बनाकर वृक्षों का रोपण किया जायेगा । इस वृहद वृक्षारोपण अभियान में आप सभी आमंत्रित है । 

 Special Attraction

  • प्रचार एवं जन-जन को वृक्षारोपण के लिए प्रोत्साहन। इसके अन्तर्गत सघन जनसंपर्क एवं तरु पुत्र - तरु मित्र बनने के लिए प्रेरित करना 
  • वृक्षारोपण के संकल्प कराना : इसके लिए संकल्प पत्र छपवाना, शिक्षण संसथानों, विभिन्न संगठनों के माध्यम से सामूहिक संकल्प कराना। दीपयज्ञ जैसे कार्यक्रमों द्वारा इसके लिए दिव्य वातावरण तैयार करना।
  • वृक्षारोपण के लिए निर्धारित क्षेत्र में वृक्षगंगा अभियान, धरती को हरी चूनर पहनाने के विशेष आयोजनों में भावनाशीलों एवं सम्पन्नों को तरुपुत्र, तरुमित्र आदि बनाकर अभियान को गतिशील करना 
  • बीज आरोपण अभियान :- दुर्गम स्थानों, वनों, टेकरियों पर, जहाँ पौधों के आरोपण की व्यवस्था न बन सके वहाँ बीजों के आरोपण का क्रम करना। 
  • मिशन के विभिन्न रचनात्मक कार्यक्रमों में रूचि अनुसार सहभागिता हेतु भी निवेदन करना ।
Contribute / Participate

आप भागीदार बन सकते है यदि आप 
  • विद्यालय अथवा महाविद्यालय में विद्यार्थी या अध्यापक है ।
  • चिकित्सक है ।
  • व्यवसायी है या नौकरी कर रहे है ।
  • प्रज्ञा/महिला/युवा/संस्कृति मंडलों के सदस्य हो ।
  • किसी गैर सरकारी संगठन के संचालक या सदस्य है ।
  • किसी सामाजिक संगठन के कार्यकर्ता है ।
  • वर्तमान में पर्यावरण संरक्षण का अभियान चलाते है ।
  • चिंतन में राष्ट्रीयता की भावना से स्वप्रेरित है ।


Write Your Comments Here:


img

शांतिकुंज में पर्यावरण दिवस पर हुए विविध कार्यक्रम

वृक्षारोपण वायु प्रदूषण से बचने का सर्वमान्य उपाय - श्रद्धेय डॉ. पण्ड्याजीसंस्था की अधिष्ठात्री ने नागकेशर के पौधा का किया पूजनसायंकालीन सभा में भारतीय संस्कृति व पर्यावरण संरक्षण के लिए हुए संकल्पितहरिद्वार 5 जून।अखिल विश्व गायत्री परिवार के मुख्यालय शांतिकुंज.....

img

चट्टानी जमीन पर रोपे ११०० पौधे

कठिन परिस्थितियाँ, पक्का इरादातरुपुत्र महायज्ञ संयोजक गायत्री परिवार के श्री मनोज तिवारी एवं श्री कीर्ति कुमार जैन ने बताया-चट्टानी जमीन पर वृक्षारोपण के लिए आठ दिन पहले से ही गड्ढे खोदे जा रहे थे।सिंचाई के लिए निकट ही ५०० बोरी.....

img

वृक्ष गंगा अभियान के तहत किया 5001पौधों का रोपण , शाजापुर ( मप्र )

कालापीपल मंडी।बचपन के पालने से लेकर अंत्येष्टी की लकड़ी तक वृक्षों से प्राप्त होती है। वृक्ष प्राणी जगत को आधार देते हैं। वे संसार का विष पीकर प्राण वायु प्रदान करते हैं। एक मनुष्य को संपूर्ण जीवन में जितनी ऑक्सीजन.....