राहत कार्य रेल हादसा खतौली-प्रभावित लोगों की सेवा में जुटा शांतिकुंज -घायलों का उपचार हो रहा है शांतिकुंज चिकित्सालय में

Published on 2017-08-19

मप्र, त्रिपुरा, गुजरात छग सहित सात राज्यों के १०३ लोग पहुंचे-घायलों का उपचार भी हो रहा है शांतिकुंज चिकित्सालय में

१९ अगस्त की सायं को हुई कलिंग उत्कल एक्सप्रेस के भीषण हादसा के समाचार मिलने के तुरंत बाद गायत्री परिवार प्रमुख डॉ. प्रणव पण्ड्या एवं संस्था की अधिष्ठात्री शैलदीदी ने शांतिकुंज आपदा प्रबंधन दल को राहत कार्य में जुटने का निर्देश दिया। निर्देश पाकर आपदा प्रबंधन की टीम सायं ७ बजे घटना स्थल के लिए रवाना हो गयी। इसके साथ ही मेरठ व मुजफ्फरनगर के गायत्री परिजनों को भी पीड़ितों की तत्काल सेवा करने का कहा गया। देर रात तक शांतिकुंज आपदा प्रबंधन टीम सेवा सुुश्रुषा में जुटी रही। वहीं शांतिकुंज, जिला प्रशासन एवं रेलवे के सहयोग से देर रात तक मप्र के ६०, उप्र के १४, त्रिपुरा के १०, छत्तीसगढ़ के १०, हरियाणा के ०२, गुजरात के ४ एवं ओडिशा के ०३ प्रभावित लोग गायत्री तीर्थ पहुँचे। व्यवस्थापक श्री गौरीशंकर शर्मा जी की देखरेख में उनकी चिकित्सा, भोजन आवास आदि की पूरी व्यवस्था की गयी। श्री शर्मा के अनुसार ५ घायलों की चिकित्सकीय उपचार शांतिकुंज चिकित्सालय मे की जा रही है।.................

img

बिहार बाढ़ पीड़ित सहायतार्थ -विशेष ट्रेन से खाद्य सामग्री का वितरण

दिनाकं १८- ८ को शांतिकुंज प्रतिनिधि श्री रामयश तिवारी व श्री रमाकांत पंडित ने गायत्री शक्ति पीठ कटिहार के युवाओं को लेकर डी. ऍम, कटिहार से कार्यस्थल के निर्धारण की चर्चा की जिसमे कडवा, आजमनगर, बलरामपुर प्रखंड लेने की बात.....

img

बिहार बाढ़ पीड़ित सहायतार्थ मनिया कोठी तथा पिपरा के बाढ़ग्रस्त १५०० लोगो के भोजन की व्यवस्था

दिनाकं १७-८-२०१७ से जिला कटिहार  बिहार में  बाढ़ पीड़ितों को अखिल विश्व गायत्री परिवार कटिहार के डहेरिया छेत्र के महिला मंडलों  व प्रज्ञा मंडलों द्वारा शिविर लगाकर मनिया कोठी तथा पिपरा के बाढ़ग्रस्त  लगभग १५०० लोगो के भोजन की व्यवस्था.....

img

साधुओं को शांतिकुंज ने पहुँचाई राहत

हरिद्वार ९ अगस्त।गायत्री तीर्थ शांतिकुंज पीड़ितों के सहयोग हेतु सदैव तत्पर रहता है। यही कारण है कि पीड़ित लोग कष्ट के समय शांतिकुंज की ओर आशाभरी निगाहों से देखते हंै। अभी हुई वारिश के कारण सप्तऋषि क्षेत्र में गंगा के.....


Write Your Comments Here: