Published on 2017-08-18

१५ हैक्टेअर पहाड़ी भूमि पर रोपे ११,००० पौधे 

ऐसे होगा  संरक्षण और विकास 
• ७० प्रकार के ११००० पौधे वहाँ रोपे गये हैं। 
• वृक्षारोपण के लिए वहाँ जेसीबी से गड्ढे पहले से ही तैयार कर लिये गये थे। 
• ग्राम पंचायत गोलेगाँव के निवासियों ने आगामी २ वर्षों तक इन पौधों की नियमित रूप से सिंचाई करने और खाद देने का संकल्प लिया है। गायत्री परिवार के कार्यकर्त्ता इस कार्य के लिए विशेष रूप से समयदान करेंगे। 
• पंचायत की ओर से इस कार्य के लिए ८ टेंकरों की व्यवस्था की गयी है। 
• पहाड़ियों के निकट ही एक तलाब बनाया गया है। 

औरंगाबाद। महाराष्ट्र 
गायत्री चेतना केन्द्र औरंगाबाद ने जन्माष्टमी के पावन अवसर पर खुलताबाद तहसील की ग्राम पंचायत गोलेगाँव क्षेत्र की पहाड़ियों पर बृहद वृक्षारापेण किया। कार्यक्रम संयोजक श्री राजेश टांक ने बताया कि यह एक सुव्यवस्थित, सुनियोजित कार्यक्रम था, जिसके द्वारा १५ हैक्टेअर पहाड़ी क्षेत्र को पूरी तरह से हरा- भरा बनाने का संकल्प लिया गया है। 

कार्यक्रम पूरे विधि- विधान के साथ सम्पन्न हुआ। ८०० नागरिकों ने इसमें भाग लिया। विधायक श्री प्रशांत बंब एवं खुलताबाद तहसील के पुलिस अधिकारियों ने भी पौधे लगाये। 

आरंभ में वृक्षों का पूजन किया गया। इस अवसर पर श्री राजेश टांक ने कहा कि श्रावण मास में पौधे रोपना तीर्थ यात्रा करने एवं कथा श्रवण करने जैसा ही पुण्यदायी कार्य है। सभी श्रद्धालुओं को लगाये गये पौधों का पुत्रवत या मित्रवत पालन करने के संकल्प दिलाये गये। 


Write Your Comments Here:


img

शांतिकुंज में पर्यावरण दिवस पर हुए विविध कार्यक्रम

वृक्षारोपण वायु प्रदूषण से बचने का सर्वमान्य उपाय - श्रद्धेय डॉ. पण्ड्याजीसंस्था की अधिष्ठात्री ने नागकेशर के पौधा का किया पूजनसायंकालीन सभा में भारतीय संस्कृति व पर्यावरण संरक्षण के लिए हुए संकल्पितहरिद्वार 5 जून।अखिल विश्व गायत्री परिवार के मुख्यालय शांतिकुंज.....

img

चट्टानी जमीन पर रोपे ११०० पौधे

कठिन परिस्थितियाँ, पक्का इरादातरुपुत्र महायज्ञ संयोजक गायत्री परिवार के श्री मनोज तिवारी एवं श्री कीर्ति कुमार जैन ने बताया-चट्टानी जमीन पर वृक्षारोपण के लिए आठ दिन पहले से ही गड्ढे खोदे जा रहे थे।सिंचाई के लिए निकट ही ५०० बोरी.....

img

वृक्ष गंगा अभियान के तहत किया 5001पौधों का रोपण , शाजापुर ( मप्र )

कालापीपल मंडी।बचपन के पालने से लेकर अंत्येष्टी की लकड़ी तक वृक्षों से प्राप्त होती है। वृक्ष प्राणी जगत को आधार देते हैं। वे संसार का विष पीकर प्राण वायु प्रदान करते हैं। एक मनुष्य को संपूर्ण जीवन में जितनी ऑक्सीजन.....