गंगा से भारत की पहचान : डॉ. पण्ड्याजी

Published on 2018-04-22

गंगा सफाई में हजारों स्वयंसेवियों ने बहाया पसीना

हरिद्वार में सप्तऋषि क्षेत्र से जटवाडा पुल तक गंगा तटों की हुई वृहत सफाई

हरिद्वार २२ अप्रैल।
गंगा मैया के अवतरण दिवस के मौके पर गायत्री परिवार के करीब ढाई लाख स्वयंसेवक गोमुख से गंगासागर के प्रमुख तटों एवं विभिन्न जलस्त्रोतों पर वृहत स्तर पर सफाई अभियान चलाया। वहीं हरिद्वार में सप्तऋषि क्षेत्र से लेकर जटवाड़ा पुल तक करीब २० किमी की दूरी पर शांतिकुंज परिवार, देसंविवि परिवार, गायत्री विद्यापीठ, युग निर्माण स्काउट गाइड, हरिद्वार नागरिक मंच, महामना सेवा संस्थान, देवभूमि पूर्व सैनिक मंच, सेवा भारती, भारत लोक सेवा संस्थान, हरिद्वार  पुलिस सहित शहर के हजारों स्वयंसेवकों ने गंगा घाटों की सफाई में जमकर पसीना बहाया। इस दौरान कई टन कूड़ा-कचरा इकट्ठा किया गया, जिसे निस्तारण के लिए ज्वालापुर स्थित सराय में पहुँचाया गया।

सफाई अभियान के अवसर पर रोड़ी बेलवाला परिसर में आयोजित संगोष्ठी को संबोधित करते हुए गायत्री परिवार प्रमुख डा. प्रणव पंडयाजी ने कहा कि गंगा हमारी संस्कृति को जोड़ती है। गंगा भारत की पहचान है। इसे स्वच्छ व निर्मल रखना हम सबका नैतिक दायित्व है। इसके लिए सफाई के साथ-साथ जन जागरण आवश्यक है। हरिद्वार के अनेक संगठनों ने गायत्री परिवार के इस महत्वाकांक्षी योजना के साथ काम करने के लिए हाथ बढाया है, यह एक उचित कदम है। हम सब मिलकर आगामी कुछ वर्षों में हरिद्वार की गरिमा को और अधिक बढ़ाने की दिशा में काम करेंगे। उन्होंने कहा कि गोमुख से गंगा सागर तक करीब ख्भ्ख्भ् किमी तक  दूरी तय करने वाली गंगा को प्रतीकात्मक रूप से साफ करने का मुख्य मकसद है लोगों को जागरुक करना। एसएसपी कृष्ण कुमार वीके ने कहा कि मैं तो यहाँ सीखने व ज्ञान प्राप्त करने के लिए आया हूँ। गायत्री परिवार के रचनात्मक कार्यों में हमारा पूरा सहयोग रहेगा। डॉ. पण्ड्याजी व एसएसपी श्री कृष्ण कुमार वीके ने वैदिक मंत्रोच्चार के साथ सुभाष घाट पर गंगा आरती कर सफाई अभियान की शुरुआत की।

शांतिकुंज, देसंविवि के करीब दो हजार स्वयंसेवकों ने सीसीआर टॉवर से लेकर ललतारौ पुल के घाटों पर जमकर पसीना बहाया। इसमें ३ वर्ष की बच्ची से लेकर ८५ साल के कार्यकर्त्ता शामिल रहे। हरिद्वार पुलिस के ५५ जवानों, देसंविवि के विद्यार्थियों, एनएसएस के स्वयंसेवियों, युग निर्माण स्काउट गाइड सहित अनेक संस्थानों के नर-नारियों ने झाड़ू, फावड़ा आदि से कूड़ा-कचरा साफ कर ट्रेक्टर ट्रॉलियों में एकत्रित किये, जिसे निस्तारण के लिए ज्वालापुर स्थित सराय पहुँचाया गया।

तेज घूप के बावजूद स्वयंसेवियों के चेहरे में जबरदस्त उत्साह था। अभियान में छत्तीसगढ़, मप्र, उप्र, बिहार, झारखंड, ओडिशा, गुजरात, दिल्ली आदि प्रांतों से शांतिकुंज में साधना करने आये साधकों ने भी घाटों की सफाई में उत्साहपूर्वक भाग लिया।

सफाई अभियान के समन्वयक श्री केदार प्रसाद दूबे ने बताया कि महामना सेवा संस्थान, बडोलाजी वेलफेयर फाउण्डेशन, देवभूमि पूर्व सैनिक संगठन, हरिद्वार नागरिक मंच, एसएमजेएन कॉलेज परिवार, सेवा भारती, मुस्कान फाउंडेशन, धर्मयात्रा महासंघ, राष्ट्रीय मानवाधिकार संरक्षण समिति, जयराम आश्रम  सहित शहर के ४३ संस्थानों ने  गायत्री परिवार के साथ मिलकर सफाई अभियान में बढ़-चढ़कर भागीदारी की।

सभी का एक ही उद्देश्य था हमारा हरिद्वार सुन्दर, स्वच्छ व गरिमामय हो। उन्होंने बताया कि गोमुख से लेकर गंगसागर तक पाँच सौ से अधिक गंगाघाटों, विभिन्न जलस्त्रोतों में देशभर के ढाई लाख से अधिक स्वयंसेवकों ने एक साथ एक समय में सफाई अभियान चलाया। इस अवसर पर एसएसपी श्री कृष्ण कुमार वीके, सीओ (यातायात) श्री वीरेन्द्र डबराल, वरिष्ठ सामाजिक कार्यकर्त्ता श्री जगदीश लाल पाहवा, शांतिकुंज के वरिष्ठ कार्यकर्त्ता श्री केसरी कपिल, डॉ. ओपी शर्मा, डॉ. बृजमोहन गौड़, श्री रामसहाय शुक्ल सहित कई प्रशासनिक अधिकारी व शहर के गणमान्य नागरिक व पत्रकारगण मौजूद रहे।

img

देश- विदेश में जलस्रोतों की सफाई कर गंगा मैया को दी श्रद्धांजलि

अमेरिका में पार्क की सफाई कर मनाई गंगा सप्तमीपिस्काटवे। अमेरिकागायत्री चेतना केन्द्र और बाल संस्कार शाला के कार्यकर्त्ताओं ने पृथ्वी दिवस और गंगा सप्तमी के विशिष्ट अवसर पर नगर के सबसे बड़े जॉनसन पार्क की सफाई करते हुए नगर को.....

img

निर्मल गंगा जन अभियान-“ सरगुजा (अंबिकापुर), छत्तीसगढ़ "

सरगुजा :  गंगा सप्तमी के पावन अवसर पर २ मई को पूरे भारतवर्ष में चलाये गए निर्मल गंगा जन अभियान के अंतर्गत अखिल विश्व गायत्री परिवार, सरगुजा (अंबिकापुर), छत्तीसगढ़ के परिजनों द्वारा प्रसिद्ध बांक नदी के तट एवं नदी में.....

img

गायत्री परिवार द्वारा हरिद्वार में विराट स्वच्छता अभियान

हरिद्वार २ मई।

गायत्री तीर्थ शांतिकुंज द्वारा तीर्थ नगरी हरिद्वार में विराट स्वच्छता अभियान चलाया गया। इस अभियान में गंगा की सफाई की गई जिसमें गीता कुटीर से ज्वालापुर तक गंगाजी के दोनों कीनारों के स्त्रभ् घाटों की सफाई की गई।.....


Write Your Comments Here: