मध्य प्रदेश की राजधानी भोपाल के गायत्री शक्तिपीठ में बना श्रीराम स्मृति उपवन लोगों के लिए हेल्थ पार्क बन गया है. इस हेल्‍थ पार्क में योग केंद्र, एक्यूप्रेशर पाथ, वास्तुवाटिका, नवग्रह वाटिका, राशि वाटिका, नक्षत्र वाटिका, पिरामिड ध्यान केंद्र और अन्‍य कई प्रकार के स्वास्थ्यवर्धक जूस खास हैं.

शहरों की निरंतर बदलती जीवनशैली में सेहत बनाए रखना अपने आप में एक कठिन चुनौती बन गया है. ऐसे में स्वास्थ्य संबंधी कठिनाइयों से बचने और फिट रहने के लिए श्रीराम स्मृति उपवन में रोजाना करीब दो हजार लोग खुद को शारीरिक, मानसिक और आध्यात्मिक रूप में मजबूत करने के लिए आते हैं. अच्‍छी सेहत की चाहत रखने वाले लोगों के लिए श्रीराम स्मृति उपवन एक अलग ही दुनिया है.

योग- ध्‍यान करने के अलावा यहां पर 11 तहत के सेहतमंद ताजे जूस का भी आनंद लिया जा सकता है, वो भी सिर्फ 5 रुपये प्रति गिलास की कीमत पर. यहां विभिन्न प्रकार के दुर्लभ औषधीय पौधों के बीच ध्यान योग करना एक अलग ही अनुभूति देता है. यहां का एक्यूप्रेशर पथ भी आकर्षण का केंद्र है.

एक्यूप्रेशर पथ पर 20 से 25 मिनट चक्कर लगाकर यहां आने वाले एक्‍यूप्रेशर का लुत्‍फ उठाते हैं. एक्यूप्रेशर पथ को तीन तरह से बनाया गया है. पहले चरण में चौकोर पत्थरों पर चलना होता है. इसके बाद गोल पत्थरों पर, फिर तीसरे चरण में नुकीले पत्थर वाले पथ पर चलने से पूरे शरीर का रक्त प्रवाह सुचारू हो जाता है और कई गंभीर बीमारियों से छुटकारा मिल जाता है.

एक्यूप्रेशर का लाभ लेने के बाद यहां स्थित जूस सेंटर में जूस को औषधि के रूप में पिया जाता है. यहां गाजर, चुकंदर, नींबू शहद, ज्वारे, लौकी, आंवला, करेला, नारियल दूध, एलोवेरा, पुदिना व बेल आदि का शुद्ध जूस मात्र पांच रुपये प्रति गिलास में मिलता है.



 


Write Your Comments Here:


img

शांतिकुंज में पर्यावरण दिवस पर हुए विविध कार्यक्रम

वृक्षारोपण वायु प्रदूषण से बचने का सर्वमान्य उपाय - श्रद्धेय डॉ. पण्ड्याजीसंस्था की अधिष्ठात्री ने नागकेशर के पौधा का किया पूजनसायंकालीन सभा में भारतीय संस्कृति व पर्यावरण संरक्षण के लिए हुए संकल्पितहरिद्वार 5 जून।अखिल विश्व गायत्री परिवार के मुख्यालय शांतिकुंज.....

img

चट्टानी जमीन पर रोपे ११०० पौधे

कठिन परिस्थितियाँ, पक्का इरादातरुपुत्र महायज्ञ संयोजक गायत्री परिवार के श्री मनोज तिवारी एवं श्री कीर्ति कुमार जैन ने बताया-चट्टानी जमीन पर वृक्षारोपण के लिए आठ दिन पहले से ही गड्ढे खोदे जा रहे थे।सिंचाई के लिए निकट ही ५०० बोरी.....

img

वृक्ष गंगा अभियान के तहत किया 5001पौधों का रोपण , शाजापुर ( मप्र )

कालापीपल मंडी।बचपन के पालने से लेकर अंत्येष्टी की लकड़ी तक वृक्षों से प्राप्त होती है। वृक्ष प्राणी जगत को आधार देते हैं। वे संसार का विष पीकर प्राण वायु प्रदान करते हैं। एक मनुष्य को संपूर्ण जीवन में जितनी ऑक्सीजन.....