आपदा प्रभावितों के लिए तैयार किया केदार कुटी का मॉडल :-


शांतिकुंज ने 16- 17 जून को हिमालय क्षेत्र में आई दैवी त्रासदी से प्रभावित 9 जिलों में आपदा राहत कार्य के प्रथम चरण का कार्य पूरा कर लिया है। इसके अंतर्गत जरूरतमंद लोगों के भोजन, राशन, अस्थाई आवास, कपड़े, बर्तन आदि की व्यवस्था की गयी थी। शांतिकुंज के व्यवस्थापक श्री गौरीशंकर शर्मा की अध्यक्षता में गुरुवार को हुई समीक्षात्मक गोष्ठी में इस संदर्भ की विस्तृत जानकारी विभिन्न जिलों और जोनों में सक्रिय आपदा प्रबंधन टोली के नायकों ने प्रस्तुत की। दलों की रिपोर्ट के अनुसार चयनित गाँवों में अब अगले चरण में सार्वजनिक भवनों के पुनर्निर्माण, प्रभावित लोगों हेतु आवास, विद्यार्थियों के लिए पाठ्य सामग्री, पशुओं हेतु चारा आदि भिजवाने का क्रम प्रारंभ किया जा रहा है।

शांतिकुंज
आपदा राहत प्रकोष्ठ के अनुसार पहाड़ों में प्रभावितों तक सीधे राहत सामग्री पहुंचाने हेतु वाहन व खच्चरों का प्रयोग किया जा रहा है। क्षेत्र का पहले सर्वे किया जाता है, फिर जरूरत के अनुसार खाद्य सामग्री, बर्तन किट, त्रिपाल, कम्बल, कपड़े, लालटेन, स्टोव, पुस्तकें, कापियाँ, टाटपट्टी, कुर्सी मेजें, चॉक आदि भेजे जाते हैं।

चमोली
जिले के आपदा राहत दल के नायक विष्णु मित्तल, देहरादून के सुखदेव अनघोरे, हरिद्वार के सूरत सिंह अमृते, रुद्रप्रयाग के नरेन्द्र ठाकुर, टिहरी के घनश्याम देवांगन, पौड़ी के महेश राठौर, पिथौरागढ़बागेश्वर के कामता साहू एवं उत्तरकाशी के जयराम मोटलानी के नेतृत्व में राहत टोली गयी थीं। इन्होंने विभिन्न क्षेत्रों में राहत सेवा कार्य कर लौटे कर अपनी प्रगति रिपोर्ट प्रस्तुत की। वहाँ प्रभावित गाँवों को पुन: सुचारू से खड़ा करने के लिए गाँववासियों की मूलभूत आवश्यकताओं की लिस्ट भी समीक्षा गोष्ठी में प्रस्तुत की गयी। जरूरत के अनुसार अगले चरण का कार्य आरंभ करने की योजना बनायी गयी, जिसका क्रियान्वयन अगले कई माह तक चलता रहेगा।

संस्था की अधिष्ठात्री शैल दीदी ने बताया कि चयनित गाँवों के लोग जिनके मकान इस आपदा की भेंट चढ़ गये हैं, उनकी आवश्यकताओं को देखते हुए शांतिकुंज उन्हें आवास मुहैया करायेगा। इस हेतु शांतिकुंज के इंजीनियरों ने मकानों के दो मॉडल तैयार किये हैं। इसका नामकरण संस्था प्रमुख ने केदार कुटी- 1 व केदार कुटी- 2 रखा है। जिनका परिवार छोटा है, उनके लिए 8 बाई 22 फीट व थोड़े बड़े परिवारों के लिए 16 बाई 22 फीट के मकान तैयार किये गये हैं।





Write Your Comments Here:


img

उत्तराखंड राहत कार्यों में हुए शहीदों को दी श्रद्धांजलि, परिवारी जनों को सहयोग - २० शहीदों के परिवारों को दिया गया २-२ लाख रुपये का अनुदान

सरदार पटेल की कर्मभूमि-बारडोली में हुतात्माओं का सम्मान२० शहीदों के परिवारों को दिया गया २-२ लाख रुपये का अनुदानहमारा समाज उन जाँबाज नौजवानों का सदा ऋणी रहेगा, जो अपने देश और देशवासियों की भलाई के लिए अपना सर्वोच्च त्याग-बलिदान करने.....

img

शांतिकुंज ने भेजा छठवाँ पुनर्वास राहत दल, तीन वाहन में 17 मकान बनाने हेतु सामग्री लेकर गया दल !

16-17 जून को केदारनाथ क्षेत्र में आई विनाशकारी आपदा में बेघर हुए चयनित लोगों को आवास मुहैया कराने में शांतिकुंज जुटा हुआ है। इसी कड़ी में शांतिकुंज से तीन वाहन में मकान बनाने के लिए लोहे एंगल, दरवाजे, खिड़की आदि.....