16- 17 जून को हिमालय क्षेत्र में हुई विनाशकारी त्रासदी में पहाड़ के हजारों भवन ध्वस्त हो गये थे। इनमें से सार्वजनिक भवनों, स्कूलों तथा गरीब लोगों हेतु निःशुल्क आवास निर्माण करने के लिए शांतिकुंज ने पहल की थी। तब बरसात के कारण भवन निर्माण का कार्य नहीं हो पाया था। बरसात रुकते ही प्रथम चरण में टिहरी गढ़वाल जिले के तीन स्कूलों के निर्माण हेतु शांतिकुंज ने आपदा राहत दल रवाना किया। महेश राठौर के नेतृत्व में गये दल के साथ 4 वाहन में निर्माण सामग्री भेजी गई। निर्माण कार्य करने वाले स्वयंसेवक भी शांतिकुंज से साथ गये है। दल को शांतिकुंज आपदा प्रबंधन प्रकोष्ठ के प्रभारी एवं व्यवस्थापक श्री गौरीशंकर शर्मा ने हरी झंडी दिखाकर रवाना किया। इस अवसर पर उन्होंने कहा कि शांतिकुंज सदैव पीड़ितों की सेवा- सुश्रूषा करते आया है। उत्तराखंड त्रासदी से पीड़ितों की पारिवारिक स्थिति को पटरी पर लाने के उद्देश्य से शांतिकुंज एवं देवसंस्कृति विश्वविद्यालय में निःशुल्क कुटीर उद्योग का प्रशिक्षण प्रारंभ किया गया है। इनमें स्क्रीन प्रिटिंग, अगरबत्ती निर्माण, फोटो फ्रेमिंग, बेकरी, हथकरघा, गौमय औषधि सहित विभिन्न प्रकार के स्वावलम्बन प्रमुख हैं। उन्होंने बताया कि क्षतिग्रस्त भवनों के पुनर्निर्माण के क्रम के प्रथम चरण में टिहरी गढ़वाल जनपद राज.इंटर कॉलेज थत्यूड, राज.इंटर कॉलेज काटल, राज.इंटर कॉलेज बंशगील के भवनों का पुनर्निर्माण किया जायेगा। यहाँ 20गुणा60 फीट का सभागार, क्लास रूम एवं किचन बनाये जायेंगे। अगले चरण में पिथौरागढ़, चमोली, पौड़ी आदि जनपदों के चयनित पीड़ितों के आवास एवं सार्वजनिक भवनों की मरम्मत की जायेगी। इस अवसर पर इंजीनियर गौरीशंकर सैनी, राकेश जायसवाल, प्रो विश्वप्रकाश त्रिपाठी आदि उपस्थित थे।


Write Your Comments Here:


img

उत्तराखंड राहत कार्यों में हुए शहीदों को दी श्रद्धांजलि, परिवारी जनों को सहयोग - २० शहीदों के परिवारों को दिया गया २-२ लाख रुपये का अनुदान

सरदार पटेल की कर्मभूमि-बारडोली में हुतात्माओं का सम्मान२० शहीदों के परिवारों को दिया गया २-२ लाख रुपये का अनुदानहमारा समाज उन जाँबाज नौजवानों का सदा ऋणी रहेगा, जो अपने देश और देशवासियों की भलाई के लिए अपना सर्वोच्च त्याग-बलिदान करने.....

img

शांतिकुंज ने भेजा छठवाँ पुनर्वास राहत दल, तीन वाहन में 17 मकान बनाने हेतु सामग्री लेकर गया दल !

16-17 जून को केदारनाथ क्षेत्र में आई विनाशकारी आपदा में बेघर हुए चयनित लोगों को आवास मुहैया कराने में शांतिकुंज जुटा हुआ है। इसी कड़ी में शांतिकुंज से तीन वाहन में मकान बनाने के लिए लोहे एंगल, दरवाजे, खिड़की आदि.....