जेट्टीमल्ली हेतु मकान बनाने की सामग्री की दूसरी खेप रवाना अपने आराध्य देव युगऋषि पं० श्रीराम शर्मा के बताये सूत्र ‘पर पीड़ा पतन में तन- मन से सहयोग करना ही मनुष्यता की पहली पहचान है जो पीड़ितों की सेवा, सुश्रुषा करता है, वही सच्चा लोकसेवी है’ को जीवंत करते हुए गायत्री परिवार शांतिकुंज केदारनाथ त्रासदी में बेघर हुए लोगों को आशियाना बनाने में जुटा है। स्वयंसेवक विपरीत परिस्थितियों में अपनी लगन, उत्साह के साथ राहत कार्य में जुटे हैं। यह कहना है शांतिकुंज व्यवस्थापक श्री गौरीशंकर शर्मा के। वे जेट्टीमल्ली के लिए रवाना हो रहे स्वयंसेवी कार्यकर्ताओं से चर्चा कर रहे थे। केदारनाथ त्रासदी के पुनर्वास हेतु निर्माण कार्य देख रहे इंजीनियर गौरीशंकर सैनी ने बताया कि जेट्टीमल्ली गाँव सड़क से करीब दो किमी नीचे बसा हुआ है, जहाँ पहुंचने के लिए सीधे ढलान से होकर गुजरना पड़ रहा है। इन कठिन परिस्थितियों में भी मकान बनाने हेतु स्ट्रक्चर, सीमेंट, रेत, बजरी आदि सामान उत्साही स्वयंसेवक गाँव तक पहुंचा रहे हैं। उन्होंने बताया कि अब तक चमोली, केदारनाथ व अगस्त्यमुनि क्षेत्र के कई गाँवों में पुनर्वास के तहत आवास बनाये जा रहे हैं। गढ़वाल जिले के तीन स्कूलों में निर्माण कार्य पूरा हो चुका है।


Write Your Comments Here:


img

उत्तराखंड राहत कार्यों में हुए शहीदों को दी श्रद्धांजलि, परिवारी जनों को सहयोग - २० शहीदों के परिवारों को दिया गया २-२ लाख रुपये का अनुदान

सरदार पटेल की कर्मभूमि-बारडोली में हुतात्माओं का सम्मान२० शहीदों के परिवारों को दिया गया २-२ लाख रुपये का अनुदानहमारा समाज उन जाँबाज नौजवानों का सदा ऋणी रहेगा, जो अपने देश और देशवासियों की भलाई के लिए अपना सर्वोच्च त्याग-बलिदान करने.....

img

शांतिकुंज ने भेजा छठवाँ पुनर्वास राहत दल, तीन वाहन में 17 मकान बनाने हेतु सामग्री लेकर गया दल !

16-17 जून को केदारनाथ क्षेत्र में आई विनाशकारी आपदा में बेघर हुए चयनित लोगों को आवास मुहैया कराने में शांतिकुंज जुटा हुआ है। इसी कड़ी में शांतिकुंज से तीन वाहन में मकान बनाने के लिए लोहे एंगल, दरवाजे, खिड़की आदि.....