तूफानों से टकराने के हौसले को सराह रहा है जनमानसजून में आयी भीषण आपदा से प्रभावित उत्तराखंड वासियों की परीक्षा का कठिन दौर आरंभ हो गया है। तेज बारिश, बर्फबारी, हड्डी कंपा देने वाली ठंड, जंगली जानवरों के खतरे जैसी चुनौतियों का सामना स्थानीय निवासियों और तीर्थ यात्रियों के साथ उन गाँववासियों को सर्वाधिक झेलना पड़ रहा है। प्रशासन के लिए राहत कार्य जितना जरूरी है, उतना ही जरूरी है ठप पड़े पर्यटन उद्योग और केदारनाथ यात्रा को यथाशीघ्र आरंभ कर इस क्षेत्र के लोगों की रोजीरोटी का प्रबंध करना। प्रतिकूल परिस्थितियों का सामना करने को विवश हैं स्थानीय लोग, वे मजदूर जो आमदनी के लिए प्रशासनिक कार्यों में लगे हैं, लेकिन वे सभी शांतिकुंज के तूफानों से टकराने के उस साहसी कार्यों की हृदय से सराहना कर रहे हैं, जो बिना किसी स्वार्थ के मात्र मानवीय संवेदना और नैतिकता के आधार पर राहत कार्यों में पूरी निष्ठा के साथ लगा है। जेट्टीमल्ली, चमोली में बसाया गाँवशांतिकुंज ने थत्युड़, काटल और बंगशील गाँवों में विद्यालय निर्माण कर ग्रामवासियों को सौंपने के बाद चमोली जिले के जेट्टीमल्ली गाँव के नवनिर्माण का कार्य हाथ में लिया है। सीधी ढाल वाली अत्यंत प्रतिकूल भौगोलिक स्थिति वाले इस गाँव में १२ घर बनाये जा रहे हैं। गाँवों में घर के स्ट्रक्चर को खड़ा करने से कहीं ज्यादा कठिन कार्य है शांतिकुंज में बनाये गये घरों के ढाँचों को वाहन की निकटतम पहुँच से निर्माण स्थल तक ले जाना। इस खड़ी चढ़ाई में अकेले चढ़ना ही टेढ़ी खीर है, लेकिन  वहाँ पहुँची शांतिकुंज के अभियंता और सहयोगियों की टोली ने तीन-चार दिनों तक मेहनत करते हुए सारी सामग्री को निर्माण स्थल तक पहुँचाया। यह कार्य स्थानीय ग्रामवासियों के सहयोग के बिना किसी भी प्रकार संभव नहीं था। निर्माण सामग्री को दो खेपों में क्रमशः २५ अक्टूबर और ३० अक्टूबर को शांतिकुंज से जेट्टीमल्ली भेजा गया। पूरी योजना का संचालन कर रहे अभियंता श्री गौरीशंकर सैनी व सभी सहयोगी अभियंताओं, प्रमुख परिजनों की उपस्थिति में शांतिकुंज व्यवस्थापक व आपदा प्रबंधन प्रकोष्ठ प्रभारी आदरणीय श्री गौरीशंकर शर्मा जी ने हरी झंडी दिखाकर गृह निर्माण सामग्री को शांतिकुंज से रवाना किया। समाचार लिखे जाने तक जेट्टीमल्ली में इं. श्री अजय शर्मा के मार्गदर्शन में १२ लोगों की टीम द्वारा गृह निर्माण कार्य जारी है। कई घरों के स्ट्रक्चर खड़े हो गये हैं। शांतिकुंज के मकानों को गाँववासी खूब पसंद कर रहे हैं और आभार व्यक्त कर रहे हैं। कर्ण प्रयाग के कर्मठ कार्यकर्त्ता श्री दिनेश मैखुरी एवं स्थानीय ग्राम सरपंच का प्रशंसनीय सहयोग मिल रहा है। केदारनाथ में भोजन सेवाशांतिकुंज ने केदारनाथ और उसके नीचे लिंचोली में भोजनालय चलाने का कार्य अपने हाथ में लिया है। वहाँ प्रतिदिन देशभर से आ रहे श्रद्धालुओं को भोजन उपलब्ध कराने के साथ प्रशासनिक अधिकारी, कर्मचारियों के दोनों समय के भोजन का प्रबंध कर रहा है। जो भी इन सेवाओं का लाभ ले रहे हैं, वे भोजन के साथ वहाँ के आध्यात्मिक वातावरण, शांतिकुंज प्रतिनिधियों के सुविचार और आत्मीयतापूर्णर् व्यवहार से गद्गद हैं।  केदारनाथ में श्री महेश राठौड़ व श्री दयाराम और लिंचोली में श्री नरेन्द्र ठाकुर व काशीराम के साथ शांतिकुंज के १२ स्वयंसेवक भोजनालय व्यवस्था में जुटे हैं। केदारनाथ में पूजा आरंभ होने से लेकर भाई दूज (५ नवंबर) को भगवान की पालकी उखीमठ आ जाने तक वे लगातार अपनी सेवाएँ देते रहेंगे। शांतिकुंज के आपदा राहत कोश में सहयोग के लिएशांतिकुंज के आपदा राहत कोश में सहयोग करने के इच्छुक परिजन शांतिकुंज के निम्र खाते में सीधे अपने यहाँ की बैंक में धनराशि जमा करा सकते हैं। राशि जमा करा कर उसकी पेय इन स्लिप की काउंटर फाइल की फोटो कॉपी शांतिकुंज भेज दें, ताकि उसकी रसीद यहाँ से भेजी जा सके। State Bank of India   30491675367       IFSC: SBIN0010588विदेश के लिएShri Vedmata Gayatri Trust FCRA, HaridwarHDFC Bank Ltd.09431170000022IFSC: HDFC0000943MIRC: 249240002Branch Code: 000943


Write Your Comments Here:


img

उत्तराखंड राहत कार्यों में हुए शहीदों को दी श्रद्धांजलि, परिवारी जनों को सहयोग - २० शहीदों के परिवारों को दिया गया २-२ लाख रुपये का अनुदान

सरदार पटेल की कर्मभूमि-बारडोली में हुतात्माओं का सम्मान२० शहीदों के परिवारों को दिया गया २-२ लाख रुपये का अनुदानहमारा समाज उन जाँबाज नौजवानों का सदा ऋणी रहेगा, जो अपने देश और देशवासियों की भलाई के लिए अपना सर्वोच्च त्याग-बलिदान करने.....

img

शांतिकुंज ने भेजा छठवाँ पुनर्वास राहत दल, तीन वाहन में 17 मकान बनाने हेतु सामग्री लेकर गया दल !

16-17 जून को केदारनाथ क्षेत्र में आई विनाशकारी आपदा में बेघर हुए चयनित लोगों को आवास मुहैया कराने में शांतिकुंज जुटा हुआ है। इसी कड़ी में शांतिकुंज से तीन वाहन में मकान बनाने के लिए लोहे एंगल, दरवाजे, खिड़की आदि.....