दिनांक 12 फरवरी को शिक्षकों एवं बी.एड. के विद्यार्थियों के लिए के गायत्री विद्यापीठनवलगढ के संस्थापक श्री कृष्ण कुमार दायमा द्वारा एक दिवसीय विशेष शिक्षक- प्रशिक्षक कार्यशाला का आयोजन किया गया। कार्यशाला में मनु आक्सॅफोर्ड कालेज, एस.एन.बी.एड. कालेज एवं गायत्री विद्यापीठ के लगभग 100 शिक्षकों सहित बडी संख्या में 10वी और 12वीं के छात्र भी शामिल हुए।कार्यशाला में जिले के वरिष्ठ प्रतिनिधि राजेश धारिवाल ने भी शिक्षको को अध्यात्म और जीवन में इसकी उपयोगिता विषय में अपना मार्गदर्शन दिया। नवीन सहल जी ने विद्यार्थियों की दिनचर्या पर चर्चा की एवं बी.टेक. के छात्र शिव शंकर जी ने अपने दिया टीम से जुडनें और जीवन में आए रचनात्मक परिवर्तन की चर्चा की। कार्यशाला में कई रचनात्मक कार्यक्रमों के द्वारा नेतृत्व क्षमता के विकास, सामाजिक समस्याओं के समाधान, प्रतिभा संवर्धन एवं परिष्कार, प्रोत्साहन की कला, व्यसन मुक्ति, दैनिक दिनचर्या आदि विषयों को समाहित किया गया। कार्यक्रम में शामिल सभी प्रशिक्षको ने बताया कि यह उनके जीवन का पहला अवसर है जब उन्होने सामाजिक समस्याओं के समाधान के लिए स्वयं चिंतन किया और नाटक के माध्यम से लोगों में जागरूकता लाने का प्रयास किया। रनवीर सिंह, कंचन, उर्मिला सभी ने कार्यशाला को उनके व्यक्तिगत जीवन के लिए बहुत उपयोगी बताया और अपने संस्थानों में इस प्रकार की कार्यशाला के आयोजन के लिए प्रयास करने का संकल्प व्यक्त किया।


Write Your Comments Here:


img

आपके द्वार पहुंचा हरिद्वार

16 दिसंबर 2020 :-आपके द्वार पहुंचा हरिद्वार कार्यक्रम के अन्तर्गत दिनांक 16 दिसंबर 2020 को देव संस्कृति विश्वविद्यालय के प्रति कुलपति आदरणीय डॉक्टर चिन्मय पंड्या जी जयपुर राजस्थान पहुंचे। जहां उन्होंने परिजनों से भेंट वार्ता की।.....

img

भारतीय संस्कृति ज्ञान परीक्षा का रजत जयंती वर्ष

नई पीढ़ी को संस्कृतिनिष्ठ-व्यसनमुक्त बनाने हेतु ठोस प्रयास होंसोद्देश्य प्रारंभ और प्रगतिभारतीय संस्कृति को दुनियाँ भर के श्रेष्ठ विचारकों ने अति पुरातन और महान माना है। ऋषियों की दृष्टि हमेशा से विश्व बंधुत्व की रही है। इसी लिए इस संस्कृति.....

img

२०० लिथुआनियाई करते हैं नियमित यज्ञ

११ कुण्डीय गायत्री महायज्ञ की संभावनाएँ बनीं, शाखा भी स्थापित होगी

लिथुआनिया आयुर्वेद अकादमी द्वारा प्रज्ञायोग, यज्ञ जैसे विषयों पर लिथुआनिया आयुर्वेद अकादमी द्वारा एक बृहद् वार्ता रखी गयी थी। लगभग १५० लोगों ने इसमें भाग लिया। डॉ. चिन्मय जी ने.....