देवसंस्कृति विश्वविद्यालय के नवीन शैक्षणिक सत्र २०१४-१५ के लिए आज १४७० विद्यार्थियों ने प्रवेश परीक्षा दी। यह जानकारी देसंविवि के परीक्षा नियंत्रक डॉ. चिन्मय पण्ड्या ने दी।

          उन्होंने बताया कि देवसंस्कृति विवि में चलाये जा रहे बीए, बीएससी, एमए, एमएससी, डिप्लोमा पाठ्यक्रम के कुल ३४ कोर्स हेतु आज प्रवेश परीक्षा हुई। इन पाठ्यक्रमों में शामिल होने वाले विद्यार्थियों की सुविधा की दृष्टि से देसंविवि के अलावा नोएडा, लखनऊ, भोपाल, राजनांदगांव, वडोदरा, हैदराबाद, पटना, जोधपुर,  नागपुर, कोलकाता में परीक्षा केन्द्र बनाये गये थे। उन्होंने बताया कि इन केन्द्रों में परीक्षा संचालित करने के लिए देवसंस्कृति विवि से पर्यवेक्षकों की टीम गयी थीं। परीक्षार्थी अपने सुविधानुसार अपने निकटतम परीक्षा केन्द्र में शामिल हुए। आज हुए लिखित परीक्षा का रिजल्ट २७ जून को घोषित किया जायेगा। डॉ. चिन्मय ने बताया कि एम.ए., एम.एस-सी., डिप्लोमा, एवं प्रमाण पत्र पाठ्यक्रम के सफल विद्यार्थियों का साक्षात्कार २९ जून को निर्धारित है तथा बी.ए., बी.एस-सी. एवं बी.सी.ए. के सफल छात्र-छात्राओं का ०१ व ०२ जुलाई को साक्षात्कार होगा। उन्होंने बताया कि इन सभी पाठ्यक्रमों में प्रवेश हेतु चयनित विद्यार्थियों की घोषणा ०४ जुलाई को होगी।
 


Write Your Comments Here:


img

भारतीय संस्कृति ज्ञान परीक्षा का रजत जयंती वर्ष

नई पीढ़ी को संस्कृतिनिष्ठ-व्यसनमुक्त बनाने हेतु ठोस प्रयास होंसोद्देश्य प्रारंभ और प्रगतिभारतीय संस्कृति को दुनियाँ भर के श्रेष्ठ विचारकों ने अति पुरातन और महान माना है। ऋषियों की दृष्टि हमेशा से विश्व बंधुत्व की रही है। इसी लिए इस संस्कृति.....

img

२०० लिथुआनियाई करते हैं नियमित यज्ञ

११ कुण्डीय गायत्री महायज्ञ की संभावनाएँ बनीं, शाखा भी स्थापित होगी

लिथुआनिया आयुर्वेद अकादमी द्वारा प्रज्ञायोग, यज्ञ जैसे विषयों पर लिथुआनिया आयुर्वेद अकादमी द्वारा एक बृहद् वार्ता रखी गयी थी। लगभग १५० लोगों ने इसमें भाग लिया। डॉ. चिन्मय जी ने.....

img

इंडोनेशिया और देव संस्कृति विश्वविद्यालय के बीच शिक्षा एवं सांस्कृतिक क्षेत्रों में सहयोग के लिए हुआ अनुबंध

इंडोनेशिया के धार्मिक मंत्रालय के हिन्दू निदेशालय ने भारतीय संस्कृति एवं वैदिक परम्पराओं के अध्ययन-अध्यापन हेतु देव संस्कृति विश्वविद्यालय के साथ अनुबंध किया है। देसंविवि प्रवास पर आये इंडोनेशियाई मंत्रालय के निदेशक श्री कटुत विद्वन्य और देसंविवि के प्रतिकुलपति डॉ......