गायत्री तीर्थ शांतिकुंज के रामकृष्ण हॉल में उप्र के प्रधानाचार्यों की ३७वाँ वार्षिक अधिवेशन एवं शैक्षणिक संगोष्ठी का शुभारंभ हुआ। परिषद के संरक्षक श्रीनिवास शुक्ल, महेन्द्र त्यागी, प्रदेश अध्यक्ष राजेन्द्र वाजपेयी एवं महामंत्री त्रिलोकीनाथ त्रिपाठी एवं देवसंस्कृति विवि के शिक्षा विभाग के निदेशक डॉ कर्मयोगी ने संयुक्त रूप से दीप प्रज्वलन कर शुभारंभ किया। अधिवेशन में परिषद से जुड़े उप्र के विभिन्न जनपदों से आये प्रधानाचार्य भागीदारी कर रहे हैं।

          उद्घाटन सत्र को सम्बोधित करते हुए डॉ. आर.पी. कर्मयोगी ने कहा कि अनुशासित विद्यार्थी ही आगे बढ़ते हैं और यह अनुशासन विद्यार्थी जीवन प्रारंभ करने के साथ ही उन्हें सीखना होता है। शिक्षक ही विद्यार्थियों को जीवन में ऊँचा उठने के लिए अवसर प्रदान करते हैं तथा कठिनाइयों से जूझने के लिए उन्हें प्रोत्साहित करने का काम भी शिक्षक ही करते हैं। उन्होंने कहा कि  विद्यार्थियों का जीवन ऊर्जा से भरा होता है, उसे नियंत्रण में रखते हुए उनकी ऊर्जा को सही दिशा में रूपांतरण करने की कला शिक्षकों को आनी चाहिए। शिक्षाविद डॉ कर्मयोगी ने कहा कि  छात्र-छात्राओं को पढ़ाने से ज्यादा महत्त्व उनके अंदर रचनात्मक गुणों का विकास करना देना चाहिए। डॉ कर्मयोगी ने विद्यार्थियों में प्रकृति, प्रवृत्ति और पराक्रम के गुणों को विकास करने पर बल दिया।

          प्रधानाचार्य परिषद के प्रदेश अध्यक्ष राजेन्द्र वाजपेयी ने कहा कि शांतिकुंज ने शिक्षा के साथ विद्या सिखाने की जो परंपरा कायम की है, उससे प्रधानाचार्य परिषद से जुड़े प्रतिनिधिगण लाभान्वित हो सकें, इसी उद्देश्य से यह अधिवेशन यहाँ लगाया गया है। परिषद के संरक्षक श्रीनिवास शुक्ल के कहा कि यहाँ ज्ञान और साधना का सम्यक् गुण प्राप्त करने का बहुत ही अच्छा माहौल है। मानव जाति के कल्याण के कार्य करने की यहाँ सुंदर प्रेरणा मिलती है। महामंत्री त्रिलोकीनाथ पाण्डेय ने कहा कि दो दिन तक चलने वाले इस अधिवेशन में विद्यार्थियों के सर्वांगीण विकास के पहलुओं पर चर्चा की जायेगी तथा इसके क्रियान्वयन में आने वाली संभावित परेशानियों के हल भी ढूंढ़े जायेंगे। 


Write Your Comments Here:


img

भारतीय संस्कृति ज्ञान परीक्षा का रजत जयंती वर्ष

नई पीढ़ी को संस्कृतिनिष्ठ-व्यसनमुक्त बनाने हेतु ठोस प्रयास होंसोद्देश्य प्रारंभ और प्रगतिभारतीय संस्कृति को दुनियाँ भर के श्रेष्ठ विचारकों ने अति पुरातन और महान माना है। ऋषियों की दृष्टि हमेशा से विश्व बंधुत्व की रही है। इसी लिए इस संस्कृति.....

img

२०० लिथुआनियाई करते हैं नियमित यज्ञ

११ कुण्डीय गायत्री महायज्ञ की संभावनाएँ बनीं, शाखा भी स्थापित होगी

लिथुआनिया आयुर्वेद अकादमी द्वारा प्रज्ञायोग, यज्ञ जैसे विषयों पर लिथुआनिया आयुर्वेद अकादमी द्वारा एक बृहद् वार्ता रखी गयी थी। लगभग १५० लोगों ने इसमें भाग लिया। डॉ. चिन्मय जी ने.....

img

इंडोनेशिया और देव संस्कृति विश्वविद्यालय के बीच शिक्षा एवं सांस्कृतिक क्षेत्रों में सहयोग के लिए हुआ अनुबंध

इंडोनेशिया के धार्मिक मंत्रालय के हिन्दू निदेशालय ने भारतीय संस्कृति एवं वैदिक परम्पराओं के अध्ययन-अध्यापन हेतु देव संस्कृति विश्वविद्यालय के साथ अनुबंध किया है। देसंविवि प्रवास पर आये इंडोनेशियाई मंत्रालय के निदेशक श्री कटुत विद्वन्य और देसंविवि के प्रतिकुलपति डॉ......


Warning: Unknown: write failed: No space left on device (28) in Unknown on line 0

Warning: Unknown: Failed to write session data (files). Please verify that the current setting of session.save_path is correct (/var/lib/php/sessions) in Unknown on line 0