तब परलोक में आत्मा को कष्ट का सामना करना पड़ता है

img

जीवन की वास्तविक सफलता और समृद्घि आत्मभाव में जागृत रहने में है। जब मनुष्य, अपने को आत्मा अनुभव करने लगता है तो उसकी इच्छा, आकांक्षा और अभिरूचि उन्हीं कामों की ओर मुड़ जाती है, जिनसे आध्यात्मिक सुख मिलता है। मनुष्य परोपकार, परमार्थ, सेवा, सहायता, दान, उदारता, त्याग, तप से भरे हुए पुण्य कर्म करता है।

तो हृदय के भीतरी कोने में बड़ा ही सन्तोष, हलकापन, आनन्द एवं उल्लास उठता है। इसका अर्थ है कि यह पुण्य कर्म आत्मा के स्वार्थ के अनुकूल है। वह ऐसे ही कार्यों को पसंद करता है। आत्मा की आवाज सुनने वाले और उसी की आवाज पर चलने वाले सदा पुण्य कर्मों होते हैं।


आत्मा को तात्कालीन सुख सत्कर्मों में आता है। शरीर की मृत्यु होने के उपरान्त जीव की सद्गति मिलने में भी हेतु सत्कर्म ही हैं। लोक और परलोक में आत्मिक सुख शान्ति सत्कर्मो के ऊपर ही निर्भर है। इसलिए आत्मा का स्वार्थ पुण्य प्रयोजन में है।

शरीर का स्वार्थ इसके विपरीत है। इन्द्रियां और मन संसार के भोगों को अधिकाधिक मात्रा में चाहते हैं। इस कार्य प्रणाली को अपनाने से मनुष्य नाशवान शरीर की इच्छाएं पूर्ण करने में जीवन को खर्च करता है और पापों का भार इकट्ठा करता रहता है।

इससे शरीर और मन का अभिरंजन तो होता है, पर आत्मा को इस लोक और परलोक में कष्ट उठाना पड़ता है। आत्मा के स्वार्थ के सत्कर्मों में शरीर को भी कठिनाइयाँ उठानी पड़ती हैं। तप, त्याग, संयम, ब्रह्मचर्य, सेवा, दान आदि के कार्यों में शरीर को कसा जाता है। तब ये सत्कर्म सधते हैं।

img

मन की मलिनता मिटायें, शिवत्व जगायें

मन वस्तुत: एक बड़ी शक्ति है। आलसी और  उत्साही, कायर और वीर, दानी और समृद्ध, निर्गुणी और सद्गुणी, पापी और पुण्यात्मा, अशिक्षित और विद्वान, तुच्छ और महान, तिरस्कृत और प्रतिष्ठित का जो आकाश-पाताल का अंतर मनुष्य के बीच दिखाई पड़ता.....

img

हर व्यक्त‌ि इन बातों को समझे तो व‌िश्व में शांत‌ि और सद्भाव संभव है

एकता की स्थापना के लिए समता आवश्यक है
21 स‌ितंबर को व‌‌िश्व शांत‌ि द‌िवस के रुप में मनाया जाता है क्योंक‌ि मानव के व‌िकास और उन्नत‌ि के ल‌िए शांत‌ि सबसे जरुरी तत्व है। लेक‌‌िन साल में स‌‌िर्फ एक द‌िन को शांत‌ि.....

img

चोबीस मिनट में पाइए चौबीस घण्टों का स्वास्थ्य


आने वाले २१ जून को सम्पूर्ण विश्व में विश्वयोग दिवस मनने जा रहा है। प्रधान मन्त्री श्री नरेन्द्र मोदी जी की पहल पर इस विश्व स्तरीय स्वास्थ्य संरक्षण एवं समग्र स्वास्थ्य के प्रति जन- मनों में जागरूकता लाने वाला अन्तर्राष्ट्रीय.....


Write Your Comments Here: