Published on 2017-12-27
img

युग निर्माण भारत स्काउट गाइड का जनपद मुख्यालय शांतिकुंज में स्काउट गाइड के प्रशिक्षकों का सात दिवसीय प्रशिक्षण शिविर का शुभारंभ हुआ। शिविर का शुभारंभ शांतिकुंज व्यवस्थापक श्री गौरीशंकर शर्मा ने स्काउट ध्वज फहराकर किया। 

प्रतिभागियों को सम्बोधित करते हुए शांतिकुंज व्यवस्थापक श्री गौरीशंकर शर्मा ने कहा कि यह सृष्टि अनुशासन से चल रही है। किसी भी क्षेत्र में सफल होने के लिए उसके निर्धारित अनुशासन को पालन करना होता है। समाज में जितने भी लोग ऊँचे उठे हैं, वे सब अनुशासन को स्वतः अंतःकरण से स्वीकारा, तभी वे ऊँचे उठ सके। उन्होंने कर्त्तव्यनिष्ठ इंसान बन समाज हित में कार्य करने के लिए प्रेरित किया। 

शिविर के संयोजक प्रादेशिक संगठन आयुक्त नरेन्द्र शाह व पूर्णिमा पाण्डेय ने बताया कि शिविर में हरिद्वार, शांतिकुंज, पौड़ी, टिहरी, चमोली, रुद्रप्रयाग, देहरादून और उत्तरकाशी स्काउट गाइड जनपद के स्काउट मास्टर एवं गाइड कैप्टन भाग ले रही हैं। शिविर के माध्यम से प्रतिभागियों को ध्वज शिष्टाचार, वीपी सिक्स, गाँठें बाँधना, गजेट निर्माण, तम्बू निर्माण, पुल निर्माण, फर्स्ट एड, हस्तकला, साज- सज्जा, हाइक, कैम्प फायर आदि सिखाये जायेंगे। ये प्रतिभागी मानव जीवन को उत्कृष्टता की ओर ले जाने वाले ध्यान, योग, हवन आदि में रुचिपूर्वक भाग ले रहे हैं। शिविर के दौरान जिला मुख्यालय आयुक्त श्री गेंदालाल चौरसिया, श्रीमती आशा सोलंकी आदि प्रशिक्षण देंगे।


Write Your Comments Here:


img

आपके द्वार पहुंचा हरिद्वार

16 दिसंबर 2020 :-आपके द्वार पहुंचा हरिद्वार कार्यक्रम के अन्तर्गत दिनांक 16 दिसंबर 2020 को देव संस्कृति विश्वविद्यालय के प्रति कुलपति आदरणीय डॉक्टर चिन्मय पंड्या जी जयपुर राजस्थान पहुंचे। जहां उन्होंने परिजनों से भेंट वार्ता की।.....

img

भारतीय संस्कृति ज्ञान परीक्षा का रजत जयंती वर्ष

नई पीढ़ी को संस्कृतिनिष्ठ-व्यसनमुक्त बनाने हेतु ठोस प्रयास होंसोद्देश्य प्रारंभ और प्रगतिभारतीय संस्कृति को दुनियाँ भर के श्रेष्ठ विचारकों ने अति पुरातन और महान माना है। ऋषियों की दृष्टि हमेशा से विश्व बंधुत्व की रही है। इसी लिए इस संस्कृति.....

img

२०० लिथुआनियाई करते हैं नियमित यज्ञ

११ कुण्डीय गायत्री महायज्ञ की संभावनाएँ बनीं, शाखा भी स्थापित होगी

लिथुआनिया आयुर्वेद अकादमी द्वारा प्रज्ञायोग, यज्ञ जैसे विषयों पर लिथुआनिया आयुर्वेद अकादमी द्वारा एक बृहद् वार्ता रखी गयी थी। लगभग १५० लोगों ने इसमें भाग लिया। डॉ. चिन्मय जी ने.....