अंतर्राष्ट्रीय योग महोत्सव में देसंविवि ने लहराया परचम

Published on 2017-12-27
img

२ स्वर्ण, २ रजत, १ कांस्य पदक सहित कुल सात पुरस्कार जीते 

जनवरी के प्रथम सप्ताह में पांडिचेरी के पर्यटन विभाग द्वारा संचालित २१वें अंतर्राष्ट्रीय योग महोत्सव में हरिद्वार स्थित देवसंस्कृति विश्वविद्यालय की टीम २ स्वर्ण, २ रजत, १ कांस्य व तीन सांत्वना पुरस्कार जीते। अब तक देसंविवि को किसी एक अंतर्राष्ट्रीय योग प्रतियोगिता में मिले पदक की संख्या का एक नया रिकार्ड है। इस महोत्सव में १२ देशों के अलावा भारत के २० राज्यों के करीब सात सौ योग प्रतिभागियों ने भाग लिया था। उत्तराखंड की ओर से प्रतिनिधित्व करते हुए देसंविवि के विभिन्न आयु वर्ग के १५ विद्यार्थियों की एक टीम प्रतिभाग करने पांडिचेरी गयी थी। टीम के कोच योग विभाग के डॉ० सुनील कुमार और मैनेजर डॉ० सरस्वती काला ने बताया कि विद्यार्थियों को मिले पदक इनकी मेहनत और लगन का परिणाम है। 

दल के वापस लौटने पर अखिल विश्व गायत्री परिवार प्रमुख डॉ प्रणव पण्ड्या एवं संस्था की अधिष्ठात्री शैलबाला पण्ड्या ने इन विद्यार्थियों को बधाई दीं। इस अवसर पर उन्होंने कहा कि योग से स्वयं स्वस्थ रहा जा सकता है और स्वस्थ मन से किए गए प्रत्येक कार्य सही ढंग से सम्पन्न होते हैं और सफलता भी प्राप्त होती है। 

प्रतियोगिता की जानकारी देते हुए डॉ० सुनील कुमार ने बताया कि महिला वर्ग के २१ से २५ आयुवर्ग में दिलराजप्रीत कौर और ३० से ३५ आयुवर्ग में टीलूमाया पोवरेल ने स्वर्णपदक अर्जित किया। वहीं पुरुष वर्ग के २१ से २५ आयुवर्ग में अनमोल एवं ३० से ३५ आयुवर्ग में राकेश छिल्लर ने रजत पदक जीता। वहीं महिला वर्ग के २१ से २५ आयुवर्ग में वर्षा वर्मा ने कांस्य पदक हासिल किया। सक्षम मिश्रा, विमल कुमार पंडित और गरिमा जायसवाल ने अपनी- अपनी आयुवर्ग में चतुर्थ स्थान प्राप्त किया। प्रतिकुलपति डॉ० चिन्मय पण्ड्या ने इन विद्यार्थियों के कार्यों की सराहना करते हुए कहा कि इस उपलब्धि से सारा विश्वविद्यालय  परिवार अभिभूत है। कुलसचिव श्री संदीप कुमार ने कहा कि अब तक हुए किसी एक अंतर्राष्ट्रीय योग महोत्सव में देसंविवि के खाते में जुड़े पदकों की संख्या का यह एक नया रिकार्ड है। इस पूरे कार्यक्रम में विद्यार्थियों की सफलता में योग विभाग के विभागाध्यक्ष डॉ० सुरेश वर्णवाल की मेहनत सराहनीय रहा।

img

२०० लिथुआनियाई करते हैं नियमित यज्ञ

११ कुण्डीय गायत्री महायज्ञ की संभावनाएँ बनीं, शाखा भी स्थापित होगी

लिथुआनिया आयुर्वेद अकादमी द्वारा प्रज्ञायोग, यज्ञ जैसे विषयों पर लिथुआनिया आयुर्वेद अकादमी द्वारा एक बृहद् वार्ता रखी गयी थी। लगभग १५० लोगों ने इसमें भाग लिया। डॉ. चिन्मय जी ने.....

img

इंडोनेशिया और देव संस्कृति विश्वविद्यालय के बीच शिक्षा एवं सांस्कृतिक क्षेत्रों में सहयोग के लिए हुआ अनुबंध

इंडोनेशिया के धार्मिक मंत्रालय के हिन्दू निदेशालय ने भारतीय संस्कृति एवं वैदिक परम्पराओं के अध्ययन-अध्यापन हेतु देव संस्कृति विश्वविद्यालय के साथ अनुबंध किया है। देसंविवि प्रवास पर आये इंडोनेशियाई मंत्रालय के निदेशक श्री कटुत विद्वन्य और देसंविवि के प्रतिकुलपति डॉ......

img

बच्चों के मन मे सद्विचारों की प्रतिष्ठा कर रहे हैं पुस्तक मेले

पटियाला। पंजाब गायत्री परिवार पटियाला ने ७ जून को डीएवी पब्लिक स्कूल पत्रान में युग निर्माणी पुस्तक मेले का आयोजन किया। पुस्तक और उनके महान लेखक के विषय में जानकर वहाँ के आचार्य और विद्यार्थी सभी अभिभूत थे। नैष्ठिक परिजन सुश्री.....