इंटर्नशिप संभावनाओं को अवसर में बदलने का सुअवसर

Published on 2017-01-03

देसंविवि के ३६० विद्यार्थी देश के २७ राज्यों में परिव्रज्या के लिए रवाना

हरिद्वार, ३ जनवरी।

देवसंस्कृति विश्वविद्यालय के स्नातक एवं स्नातकोत्तर के अंतिम वर्ष के विद्यार्थियों के लिए वर्ष के प्रथम मंगलवार एक नया संदेश लेकर आया, जब वे विवि में अर्जित शिक्षा एवं विद्या का लाभ समाज में बाँटने के निर्देश के साथ रवाना हुए।

विद्यार्थियों को विदाई संदेश देते हुए विवि के अभिभावक व कुलाधिपति डॉ. प्रणव पण्ड्याजी ने कहा कि इंटर्नशिप संभावनाओं को अवसर में बदलने का सुनहरा समय है। परिव्राजक धर्म का आदर्श प्रस्तुत करने वाले स्वामी विवेकानंद को याद करते हुए कहा कि जब कोई सद्गुरु का संदेशवाहक बनकर निकलता है, तो उसकी शक्तियाँ सौ गुनी हो जाती है। उसका विचार, चरित्र और व्यवहार समाज को प्रभावित करता है। डॉ पण्ड्याजी ने इंटर्नशिप के दौरान किये जाने वाले संभावित कार्यक्रमों एवं जीवनचर्या पर विस्तार से जानकारी दी। परिव्रज्या के दौरान अपने जीवन में घटी घटनाओं का जिक्र करते हुए कुलाधिपति ने कहा कि अच्छे परिव्राजक को प्रतिकूलताओं के बीच अपना आत्मविश्वास नहीं खोना चाहिए। समय व कार्य की प्रतिबद्धता ही मनुष्य को ऊँचा उठाता है।

प्रतिकुलपति डॉ. चिन्मय पण्ड्याजी ने कहा कि देवसंस्कृति विवि की अनुठी इंटर्नशिप प्रक्रिया के तहत यहाँ अध्ययनरत विद्यार्थियों को अपना पाठ्यक्रम के दौरान एक निश्चित अवधि के लिए परिव्रज्या करनी होती है। इसके पश्चात ही उन्हें डिग्री दी जाती है। उन्होंने कहा कि युवावर्ग की समस्याओं को युवा ही बेहतर ढंग से समझ सकते हैं और समझदार, सुलझे हुए युवा ही सर्वश्रेष्ठ समाधान सुझा सकते हैं।

विवि के इंटर्नशिप विभाग से मिली जानकारी के अनुसार देवसंस्कृति विश्वविद्यालय के बीए, बीएससी, बीसीए, एमए, एमएससी, बीएड के अंतिम वर्ष तथा डिप्लोमा, सर्टीफिकेट कोर्स के कुल ३६० छात्र-छात्राएँ एक महीने तक निःशुल्क योग शिविर, शैक्षणिक संस्थानों में प्रतिभा परिष्कार कार्यशाला सहित विभिन्न रचनात्मक कार्यक्रमों का संचालन करेंगे। ११८ टोलियों में बंटे ये युवा महाराष्ट्र, उत्तराखंड, मप्र, उप्र, सिक्किम, पं बंगाल, बिहार, पंजाब, जम्मू-कश्मीर, हरियाणा, केरल, राजस्थान सहित देश के २७ राज्यों के विभिन्न शहरों में भारतीय संस्कृति की अलख जगायेंगे। इनके कार्यक्रमों में भागदौड़ भरी जिंदगी जी रहे युवाओं को व्यक्तिगत संकीर्णता से ऊपर उठकर समाज व राष्ट्र के लिए अपना योगदान देने के लिए प्रेरित करना अहम होगा।

img

२०० लिथुआनियाई करते हैं नियमित यज्ञ

११ कुण्डीय गायत्री महायज्ञ की संभावनाएँ बनीं, शाखा भी स्थापित होगी

लिथुआनिया आयुर्वेद अकादमी द्वारा प्रज्ञायोग, यज्ञ जैसे विषयों पर लिथुआनिया आयुर्वेद अकादमी द्वारा एक बृहद् वार्ता रखी गयी थी। लगभग १५० लोगों ने इसमें भाग लिया। डॉ. चिन्मय जी ने.....

img

इंडोनेशिया और देव संस्कृति विश्वविद्यालय के बीच शिक्षा एवं सांस्कृतिक क्षेत्रों में सहयोग के लिए हुआ अनुबंध

इंडोनेशिया के धार्मिक मंत्रालय के हिन्दू निदेशालय ने भारतीय संस्कृति एवं वैदिक परम्पराओं के अध्ययन-अध्यापन हेतु देव संस्कृति विश्वविद्यालय के साथ अनुबंध किया है। देसंविवि प्रवास पर आये इंडोनेशियाई मंत्रालय के निदेशक श्री कटुत विद्वन्य और देसंविवि के प्रतिकुलपति डॉ......

img

बच्चों के मन मे सद्विचारों की प्रतिष्ठा कर रहे हैं पुस्तक मेले

पटियाला। पंजाब गायत्री परिवार पटियाला ने ७ जून को डीएवी पब्लिक स्कूल पत्रान में युग निर्माणी पुस्तक मेले का आयोजन किया। पुस्तक और उनके महान लेखक के विषय में जानकर वहाँ के आचार्य और विद्यार्थी सभी अभिभूत थे। नैष्ठिक परिजन सुश्री.....