Published on 2017-12-01
img

इंडोनेशिया के धार्मिक मंत्रालय के हिन्दू निदेशालय ने भारतीय संस्कृति एवं वैदिक परम्पराओं के अध्ययन-अध्यापन हेतु देव संस्कृति विश्वविद्यालय के साथ अनुबंध किया है। देसंविवि प्रवास पर आये इंडोनेशियाई मंत्रालय के निदेशक श्री कटुत विद्वन्य और देसंविवि के प्रतिकुलपति डॉ. चिन्मय पण्ड्याजी ने इस आशय के दस्तावेज़ों पर हस्ताक्षर किये।

श्री कटुत विद्वत परम पूज्य गुरुदेव के वैज्ञानिक अध्यात्मवाद से बहुत प्रभावित हैं। अपने देश में उनके विचारों का विस्तार कर समय की माँग के अनुरूप उसे नयी ऊँचाइयों पर प्रतिष्ठित करना चाहते हैं। इसी आकांक्षा के साथ उन्होंने प्रस्तुत अनुबंध किया है।

यह अनुबंध बहुआयामी है। इसके अनुसार इंडोनेशिया के विश्वविद्यालयों के प्राध्यापकों के लिए अनेक पाठ्यक्रम चलाये जायेंगे। इसके अंतर्गत फेकल्टी तथा विद्यार्थियों के आदान-प्रदान के साथ विभिन्न प्रकार के प्रोजेक्ट्स पर संयुक्त रूप से कार्य किए जाने की सहमति बनी है। शिक्षकों एवं विद्यार्थियों के शोध परक भ्रमण हेतु वर्षभर के शैक्षणिक कैलेन्डर के अनुसार कार्यक्रम चलाये जायेंगे। इसी क्रम में इस वर्ष ५ शिक्षकों का दल योग शिक्षा एवं शोध हेतु देव संस्कृति विश्वविद्यालय आया है। दल को देव संस्कृति विश्वविद्यालय में शिक्षा आयामों के साथ-साथ जीवन प्रबंधन एवं भारतीय संस्कृति के सूत्रों से भी अवगत कराया जा रहा है।


Write Your Comments Here:


img

भारतीय संस्कृति ज्ञान परीक्षा का रजत जयंती वर्ष

नई पीढ़ी को संस्कृतिनिष्ठ-व्यसनमुक्त बनाने हेतु ठोस प्रयास होंसोद्देश्य प्रारंभ और प्रगतिभारतीय संस्कृति को दुनियाँ भर के श्रेष्ठ विचारकों ने अति पुरातन और महान माना है। ऋषियों की दृष्टि हमेशा से विश्व बंधुत्व की रही है। इसी लिए इस संस्कृति.....

img

२०० लिथुआनियाई करते हैं नियमित यज्ञ

११ कुण्डीय गायत्री महायज्ञ की संभावनाएँ बनीं, शाखा भी स्थापित होगी

लिथुआनिया आयुर्वेद अकादमी द्वारा प्रज्ञायोग, यज्ञ जैसे विषयों पर लिथुआनिया आयुर्वेद अकादमी द्वारा एक बृहद् वार्ता रखी गयी थी। लगभग १५० लोगों ने इसमें भाग लिया। डॉ. चिन्मय जी ने.....

img

बच्चों के मन मे सद्विचारों की प्रतिष्ठा कर रहे हैं पुस्तक मेले

पटियाला। पंजाब गायत्री परिवार पटियाला ने ७ जून को डीएवी पब्लिक स्कूल पत्रान में युग निर्माणी पुस्तक मेले का आयोजन किया। पुस्तक और उनके महान लेखक के विषय में जानकर वहाँ के आचार्य और विद्यार्थी सभी अभिभूत थे। नैष्ठिक परिजन सुश्री.....