img

युग निर्माण योजना की स्वर्ण जयंती के उपलक्ष्य में गायत्री तपोभूमि, मथुरा द्वारा गायत्री जयंती 2013 से 12 वर्षीय युग परिवर्तन महापुरश्चरण आरंभ किया गया है। इसके अंतर्गत क्षेत्रों में साधना मंडलों की स्थापना की जा रही है, जो 8 दिन तक 30 माला गायत्री महामंत्र का जप करते हुए विशेष अनुष्ठान करते हैं। 9वें दिन एक कुण्डीय यज्ञ के साथ साधना की पूर्णाहुति की जाती है। युग निर्माण योजना की स्वर्ण जयंती के उपलक्ष्य में अनुष्ठान आरंभ करते समय हाथ में सुपारी लेकर संकल्प किया जाता है। पूर्णाहुति के बाद इसे गायत्री तपोभूमि भेजना होता है। जो परिजन तपोभूमि, मथुरा आकर साधना कर सकते हैं, वे वहीं पहुँच कर साधना करें। सुपारी को डाक या कुरियर से तपोभूमि न भेजें, इसे कभी आते- जाते परिजनों के साथ साधक का पूरा नाम, पिता/पति का नाम, पूरा पता, फोन नंबर, आयु, शिक्षा, व्यवसाय, जन्मदिन, विवाह दिन एवं साधना स्थल का नाम लिखकर भेजें। महापुरश्चरण की विस्तृत जानकारी के लिए ‘युग परिवर्तन महापुरश्चरण साधना’ पुस्तक प्रकाशित की गयी है। प्रचारार्थ इसका मूल्य एक रुपये रखा गया है। परिजन इसे अधिक से अधिक मँगाकर जन- जन तक पहुँचायें, ताकि अधिक से अधिक लोगों को युग परिवर्तन महापुरश्चरण साधना की प्रेरणा मिल सके। विद्यार्थियों के लिए अत्यंत उपयोगी पुस्तक ‘अधिकतम अंक कैसे पायें’ बच्चे पढ़ाई और अपने अभिभावकों की अपेक्षा का भारी बोझ झेलते हुए मानसिक तनाव और निराशा की भावना झेलते देखे जाते हैं। गायत्री तपोभूमि मथुरा द्वारा उन्हें मानसिक शक्ति प्रदान करने के लिए एक विशेष पुस्तक प्रकाशित की गयी है। बच्चे थोड़ा- सा समय खरच कर इसे पढ़ेंगे तो वे एक नयी शक्ति और प्रसन्नता का अनुभव करते हुए अच्छे अंक अर्जित करने की क्षमता प्राप्त करने में सफल होंगे। मूल्य: 10 रु. मात्र.Related Video :-सामूहिक साधना वर्ष 2014 (12 वर्षीय युग परिवर्तन महापुरश्चरण साधना) :


Write Your Comments Here:


img

समस्त वर्तमान समस्याओं का समाधान है -गायत्री और यज्ञ -डॉ. चिन्मय पण्ड्याजी

शांतिकुंज प्रतिनिधि ने मंगलगिरि, अमरावती में होने जा रहे गायत्री अश्वमेध महायज्ञ की जानकारी दी, साधना, समयदान, अंशदान कर दैवी अनुदान पाने का आमंत्रण दिया।हैदराबाद। तेलंगाना गायत्री परिवार हैदराबाद ने देव संस्कृति विश्वविद्यालय के प्रतिकुलपति डॉ. चिन्मय पण्ड्या जी की मुख्य.....

img

गुरु देव को जानना है तो अखण्ड ज्योति पढ़ो

जोबट दिनांक 17 अगस्त 2014 स्थानीय गायत्री शक्तिपीठ में अखण्ड ज्योति पाठक सम्मेलन का आयोजन किया गया ।। इसमें मुख्य अतिथि थे श्री शम्भु सिंह पुरोहित सचिव भारतीय संस्कृति ज्ञान परीक्षा झाबुआ । यह उल्लेखनीय है कि श्री पुरोहित अकेले.....

img

गुरुपूर्णिमा की पूर्व संध्या पर वरिष्ठ वक्ताओं के प्रेरक उद्गार



आदरणीय श्री वीरेश्वर उपाध्याय जी गुरुतत्त्व ज्ञान, तप और संवेदनाओं का समुच्चय है। व्यक्ति यदि ज्ञानी और तपस्वी है, लेकिन उसकी संवेदनाएँ नहीं जगी तो वह उसमें अहंकार जैसे विकार पैदा हो जायेंगे।  युग के निर्माण के लिए गुरुदेव ने गुरुतत्त्व जगाया,.....