विश्व प्रसिद्ध धर्म नगरी हरिद्वार इन दिनों वासन्ती रंग में रंगा हुआ है। एक तरफ जहाँ मेलों का दौर है, वहीं दूसरी ओर धार्मिक आयोजन अपने चरम पर हैं। विभिन्न स्कूल कॉलेज एवं धार्मिक संस्थानों में सांस्कृतिक आयोजनों की धूम है। ऐसे में अखिल विश्व गायत्री परिवार के प्रमुख केन्द्र शांतिकुंज भी इस पर्व को लेकर काफी उत्साहित है। शांतिकुंज द्वारा चार दिवसीय वसन्तोत्सव में एक तरफ जहाँ साधनात्मक पृष्ठभूमि बन रही है, वहीं दूसरी ओर गायत्री विद्यापीठ, देवसंस्कृति विश्वविद्यालय एवं शांतिकुंज परिवार द्वारा सन्ध्याकालीन सभा में विभिन्न सांस्कृतिक कार्यक्रमों के माध्यम से लोकरंजन से लोकमंगल के विचार प्रस्तुत किये गये।लोकरंजन कार्यक्रम के अन्तर्गत गायत्री विद्यापीठ की कक्षा ४ की नन्हीं छात्रा आहुति पण्ड्या ने अल्हैया बिलाबल राग पर ‘तू ही आधार सकल त्रिभुवन को’ गीत प्रस्तुत कर दर्शकों का मन मोह लिया। राष्ट्र के युवाओं के आदर्श स्वामी विवेकानन्द जी के उपर एक विशेष प्रस्तुति नाटक के रूप में पेश की गयी। इसके अलावा भारत माता की आस, वन्दे मातरम्, जो देते लहू वतन को, स्वर्णिम भारत के शांतिदूत, आयुर्वेद महान जगत में आदि प्रस्तुतियाँ की गयीं।दूसरी ओर लोकसेवी महिलाओं द्वारा वसन्त पंचमी के उपलक्ष्य में एक विराट शोभायात्रा आज प्रातःकाल  निकाली गयी, जो शांतिकुंज के श्रीरामपुरम् से रानी गली, सप्तसरोवर मार्ग होते हुए शांतिकुंज के चैतन्य तीर्थक्षेत्र में जोन प्रभारी श्री कालीचरण शर्मा जी द्वारा उत्साह सम्बर्धन के साथ समाप्त हुई। विभन्न झाँकियों से सुसज्जित इस शोभा यात्रा में मातृ वन्दना, सामूहिक  साधना आदि की प्रस्तुतियाँ दी गयीं। हजारों पीत वस्त्रधारियों के हम सुधरेंगे-युग सुधरेगा, हम बदलेंगे-युग बदलेगा के जयघोषों से पूरा सप्त सरोवर क्षेत्र गुंजायमान हो गया। इस रैली में शांतिकुंज, देसंविवि और वसन्त पर्व के उपलक्ष्य देशभर से पधारे हजारों साधकों ने भाग लिया।शान्तिकुंज में चल रहे वसंत उत्सव के उपलक्ष्य में जिला स्तरीय विभिन्न प्रतियोगिताएँ हुईं, जिसमें भाषण, प्रतियोगिता, निबन्ध प्रतियोगिता, कविता सम्मेलन आदि आयोजित हुईं। इन प्रतियोगिताओं में देहली पब्लिक स्कूल, मारवाड़ इण्टर कॉलेज, जहाहर नवोदय विद्यालय, शिक्षा राज्य इण्टर कॉलेज-सुलतानपुर, ग्राम राज्य इण्टर कॉलेज-विक्रमपुर, गायत्री विद्यापीठ-शांतिकुंज के अलावा विएसएम डिग्री कॉलेज, एसडी डिग्री कॉलेज, केएलडीएवी-रुड़की, एसडीआईएसडी, उत्तराखण्ड संस्कृत विश्वविद्यालय, देवसंस्कृति विश्वविद्यालय-हरिद्वार ने प्रमुख रूप से भाग लिया। इस प्रतियोगिताओं में भाग ले रहे सैकड़ों छात्र-छात्राओं में से निबन्ध प्रतियोगिता में जवाहर नवोदय विद्यालय के अनिश सेमल्टी प्रथम, दिल्ली पब्लिक स्कूल के महक ननकानी द्वितीय तथा जवाहर नवोदय विद्यालय के शुभम् तीसरे स्थान पर आए। वहीं दूसरी ओर हम बदलेंगे-युग बदलेगा विषय पर महाविद्याल स्तर पर हुई भाषण प्रतियोगिता में देवसंस्कृति विश्वविद्यालय की शिवानी सिंह प्रथम एवं एसडी डिग्र्री कॉलेज की नेहा गुप्ता द्वितीय स्थान पर आयीं। वीएसएम डिग्री कॉलेज-रुड़की की अंशु वर्मा तथा केएलडीएवी-रुड़की के धीरेन्द्र मिश्रा संयुक्त रूप से तीसरे स्थान पर आये।


Write Your Comments Here:


img

समस्त वर्तमान समस्याओं का समाधान है -गायत्री और यज्ञ -डॉ. चिन्मय पण्ड्याजी

शांतिकुंज प्रतिनिधि ने मंगलगिरि, अमरावती में होने जा रहे गायत्री अश्वमेध महायज्ञ की जानकारी दी, साधना, समयदान, अंशदान कर दैवी अनुदान पाने का आमंत्रण दिया।हैदराबाद। तेलंगाना गायत्री परिवार हैदराबाद ने देव संस्कृति विश्वविद्यालय के प्रतिकुलपति डॉ. चिन्मय पण्ड्या जी की मुख्य.....

img

गुरु देव को जानना है तो अखण्ड ज्योति पढ़ो

जोबट दिनांक 17 अगस्त 2014 स्थानीय गायत्री शक्तिपीठ में अखण्ड ज्योति पाठक सम्मेलन का आयोजन किया गया ।। इसमें मुख्य अतिथि थे श्री शम्भु सिंह पुरोहित सचिव भारतीय संस्कृति ज्ञान परीक्षा झाबुआ । यह उल्लेखनीय है कि श्री पुरोहित अकेले.....

img

गुरुपूर्णिमा की पूर्व संध्या पर वरिष्ठ वक्ताओं के प्रेरक उद्गार



आदरणीय श्री वीरेश्वर उपाध्याय जी गुरुतत्त्व ज्ञान, तप और संवेदनाओं का समुच्चय है। व्यक्ति यदि ज्ञानी और तपस्वी है, लेकिन उसकी संवेदनाएँ नहीं जगी तो वह उसमें अहंकार जैसे विकार पैदा हो जायेंगे।  युग के निर्माण के लिए गुरुदेव ने गुरुतत्त्व जगाया,.....