१०८ कुण्डीय गायत्री महायज्ञ तेलुगु चौधरी समाज के परिजनों द्वारा संपन्न

Published on 2017-07-10
img

तेनाली गुण्टूर जिला (आन्ध्रप्रदेश)

१०८ कुण्डीय गायत्री महायज्ञ तेलुगु चौधरी समाज के परिजनों ने संपन्न कराया। जिससे गुण्टूर, कृष्णा जिले के परिजनों ने घर- घर देवस्थापना कार्यक्रम संपन्न कराकर २४ लाख गायत्री मन्त्र लेखन किया और २४ सौ गायत्री चालीस पाठ किया गया। उसी की पूर्णाहुतिः १०८ कुण्डीय यज्ञशाला बना कर किया गया। तेनाली शाखा के डॉ. श्रीराम जी ने दो माह से सघन मंथन कर अश्वमेध प्रयाज कार्य को गति प्रदान की। युग शक्ति गायत्री मासिक तेलुगु पत्रिका के सदस्य बने व पूज्य गुरुदेव के तेलुगु साहित्य को सभी ने ख़रीदा।

कार्यक्रम को सम्पन्न कराने के लिए शान्तिकुञ्ज के प्रतिनिधि श्री उमेश कुमार शर्मा एवं श्रीमती प्रशान्ति शर्मा पहुंचे। संगीत टोली में श्री फूल सिंह मरकाम, श्री चंद्रशेखर यादव, श्री संतोष अवस्थी तेलुगु गीत गाकर सभी को मन्त्र मुग्ध कर दिया। शान्तिकुञ्ज, पूज्य गुरुदेव एवं अश्वमेध महायज्ञ के विषय में सीधे तेलुगु भाषा में विशेष उद्बोधन श्रीमती प्रशान्ति शर्मा ने किया। समाज के सभी लोगों को कार्यक्रम बहुत ही पसन्द आया। अश्वमेध महायज्ञ में बढ़- चढ़ कर योगदान करने के संकल्प घोषित किये।

तेलुगु न्यूज पेपर के कई पत्रकारों नें इण्टरव्यू लिया सभी ने प्रकाशित किया जैसे ईनाडु, वार्ता, आंध्र ज्योति आदि समाचार पत्रों में पूज्य गुरुदेव माताजी के फोटो के साथ उनका जीवन परिचय के साथ अश्वमेध महायज्ञ मंगलगिरी कार्यक्रम को भी छापा गया।



img

अश्वमेध गायत्री महायज्ञ- मंगलगिरी प्रयाज कार्यक्रम

२७ तेलुगु साधकों को मुन्स्यारी विशिष्ट साधना शिविर में भागीदारी। यह शिविर तेलुगु भाषा में दिनचर्या से लेकर गुरुदेव माताजी के प्रवचन तक सभी उनकी ही भाषा में अनुवादित कर दिया गया। लोगों को यह शिविर जीवन का भूतो न.....

img

हैदराबाद में डॉ. चिन्मय पंड्या जी का कार्यक्रम

६ जुलाई, हैदराबाद (तेलंगाना)डॉ. चिन्मय पंड्या जी का कार्यक्रमदोपहर १२:०० बजे NFI  में मीटिंग हुई।सायं ४:०० बजे गायत्री ज्ञान मंदिर बोइनपल्ली, सिकन्द्राबाद में युग वेदव्यास भवन की आधार शिला डॉ. चिन्मय पंड्या जी ने राखी। उपस्थित परिजनों को भविष्य में.....

img

१०८ कुण्डीय गायत्री महायज्ञ, चिराला, प्रकाशम् जिला (आन्ध्र प्रदेश)

विशेषताएं:- भव्य यज्ञशाला सजाया गया। पेड़ पौधों से लेकर सदवाक्यों तक।२१११६ कलशों द्वारा मंगल कलश शोभा यात्रा।११११६ दीपकों द्वारा विराट दीपमहायज्ञ।विराट साहित्य स्टॉल ।।११०० गायत्री मन्त्र दीक्षा।१६ हजार से ज्यादा लोगों की भागीदारी।१७, १८, १९ जून १०८ कुण्डीय गायत्री महायज्ञ.....