Published on 2019-04-06 HARDWAR
img

इन दिनों देशभर में नौ वर्षीय मातृशक्ति श्रद्धांजली महापुरश्चरण के अन्तर्गत गृहे-गृहे गायत्री यज्ञों का अभियान तेज गति से चलाया जा रहा है। इसी श्रृंखला के अंतर्गत इस वर्ष परम पूज्य गुरुदेव की पुण्य तिथि 02 जून 2019 को विश्वव्यापी ‘ गृहे-गृहे गायत्री यज्ञ’ के आयोजन का निर्णय किया गया है जिसके अन्तर्गत दो लाख चालीस हजार घरों में एक दिन-एक समय यज्ञ सम्पन्न किये जाना हैं।


लक्ष्य-      

(1)  सम्पूर्ण विश्व मे एक साथ- एक समय 2,40,000 घरों में यज्ञ - उपासना
(2)  2020 से 2026 तक एक करोड़ घरों में गायत्री यज्ञ -उपासना का विस्तार

उद्देश्य-     
             (1)  घर-घर गायत्री महाविद्या का तत्वदर्शन पहुँचाना, देव  स्थापना एवं नियमित उपासना के  माध्यम से देव      परिवार निर्माण।
       (2)  अखण्ड ज्योति आदि मासिक पत्रिकाएँ /प्रज्ञा पाक्षिक के पाठकों / ग्राहकों में वृद्धि
       (3)  धर्म घट-ज्ञान घट स्थापित करना
       (४) घर-घर पारिवारिक ज्ञान मंदिरों (साहित्य) की स्थापना 
       (५) संस्कारों की प्रेरणा देना और संपन्न कराने की व्यवस्था करना
       (6)  संगठन/ मण्डलों का गठन करना
       (७)  स्थानीय संगठन/शक्तिपीठ एवं शांतिकुंज से नये लोगों को जोडऩा
       (8)  अखण्ड ज्योति आदि पत्र पत्रिकाओं के वितरण हेतु ज्ञानदूत तैयार करना
       (9)  समयदानियों के प्रशिक्षण एवं नये पुराने निष्क्रिय कार्यकर्ताओं को जनसंपर्क एवं समयदान हेतु तैयार करना तथा उनके प्रशिक्षण एवं नियोजन की व्यवस्था करना।
       (10)  मिशन के आधारभूत कार्यक्रम -जनसंपर्क को शक्ति प्रदान करना
        (११)   देव परिवार पत्रक भरवाना |
   
Read more @ www.awgp.org, diya.net.in 


Write Your Comments Here:


img

ईश्वर की इच्छा, हमारी जिम्मेदारी हम यज्ञमय जीवन जिएँ

जीवन और यज्ञ गीताकार का कथन है- सहयज्ञा: प्रजा: सृष्ट्वा पुरोवाच प्रजापति:। अनेन प्रसविष्यध्वमेष वोऽस्त्विष्टकामधुक्।। गीता 3/10 अर्थात्.....

img

तमसो मा ज्योतिर्गमय

प्रकाश ही जीवन है प्रकाश ही जीवन है और अन्धकार ही मरण। प्रकाश में वस्तुओं का स्पष्ट रूप दर्शाने.....


Warning: Unknown: write failed: No space left on device (28) in Unknown on line 0

Warning: Unknown: Failed to write session data (files). Please verify that the current setting of session.save_path is correct (/var/lib/php/sessions) in Unknown on line 0