Published on 2019-04-06 HARDWAR
img

इन दिनों देशभर में नौ वर्षीय मातृशक्ति श्रद्धांजली महापुरश्चरण के अन्तर्गत गृहे-गृहे गायत्री यज्ञों का अभियान तेज गति से चलाया जा रहा है। इसी श्रृंखला के अंतर्गत इस वर्ष परम पूज्य गुरुदेव की पुण्य तिथि 02 जून 2019 को विश्वव्यापी ‘ गृहे-गृहे गायत्री यज्ञ’ के आयोजन का निर्णय किया गया है जिसके अन्तर्गत दो लाख चालीस हजार घरों में एक दिन-एक समय यज्ञ सम्पन्न किये जाना हैं।


लक्ष्य-      

(1)  सम्पूर्ण विश्व मे एक साथ- एक समय 2,40,000 घरों में यज्ञ - उपासना
(2)  2020 से 2026 तक एक करोड़ घरों में गायत्री यज्ञ -उपासना का विस्तार

उद्देश्य-     
             (1)  घर-घर गायत्री महाविद्या का तत्वदर्शन पहुँचाना, देव  स्थापना एवं नियमित उपासना के  माध्यम से देव      परिवार निर्माण।
       (2)  अखण्ड ज्योति आदि मासिक पत्रिकाएँ /प्रज्ञा पाक्षिक के पाठकों / ग्राहकों में वृद्धि
       (3)  धर्म घट-ज्ञान घट स्थापित करना
       (४) घर-घर पारिवारिक ज्ञान मंदिरों (साहित्य) की स्थापना 
       (५) संस्कारों की प्रेरणा देना और संपन्न कराने की व्यवस्था करना
       (6)  संगठन/ मण्डलों का गठन करना
       (७)  स्थानीय संगठन/शक्तिपीठ एवं शांतिकुंज से नये लोगों को जोडऩा
       (8)  अखण्ड ज्योति आदि पत्र पत्रिकाओं के वितरण हेतु ज्ञानदूत तैयार करना
       (9)  समयदानियों के प्रशिक्षण एवं नये पुराने निष्क्रिय कार्यकर्ताओं को जनसंपर्क एवं समयदान हेतु तैयार करना तथा उनके प्रशिक्षण एवं नियोजन की व्यवस्था करना।
       (10)  मिशन के आधारभूत कार्यक्रम -जनसंपर्क को शक्ति प्रदान करना
        (११)   देव परिवार पत्रक भरवाना |
   
Read more @ www.awgp.org, diya.net.in 


Write Your Comments Here:


img

भारतीय संस्कृति ज्ञान परीक्षा का रजत जयंती वर्ष

नई पीढ़ी को संस्कृतिनिष्ठ-व्यसनमुक्त बनाने हेतु ठोस प्रयास होंसोद्देश्य प्रारंभ और प्रगतिभारतीय संस्कृति को दुनियाँ भर के श्रेष्ठ विचारकों ने अति पुरातन और महान माना है। ऋषियों की दृष्टि हमेशा से विश्व बंधुत्व की रही है। इसी लिए इस संस्कृति.....

img

नवरात्र पर्व पर, नव दुर्गा शक्ति की नौ धाराओं का मर्म समझें, उन्हें साधें

साधना अनुष्ठान की लकीर भर न पीटें, शक्ति साधना के उच्चतर सोपान चढ़ेंपरंपरागत क्रमशारदीय नवरात्र पर्व इस वर्ष कैलेंडर के अनुसार दिनांक १० अक्टूबर से १८ अक्टूबर तक चलेगा। युग निर्माण परिवार से जुड़े अधिकांश परिजन इन दिनों गायत्री जप-तप.....

img

उत्कृष्टता का एक सशक्त आधार

धर्मतंत्र से मानव का भावनात्मक परिष्कारधर्मतंत्र की सामर्थ्यमानव जाति की भौतिक आवश्यकताएँ और समस्याएँ स्वल्प हैं। उन्हें बुद्धिमान मानव प्राणी आसानी से हल कर सकता है। जिस विभीषिका ने अगणित गुत्थियाँ उलझा रखी है, वह भावनात्मक विकृति ही है। मनुष्य.....